close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : पटना में सड़कों पर उतरी नाव, IAF के हेलीकॉप्टर से गिराए जा रहे हैं फूड पैकेट

पटना के कई इलाकों में सड़कों के साथ-साथ घरों, अस्पतालों में पानी घुस गया है और सड़कों पर नावें चल रही हैं.

बिहार : पटना में सड़कों पर उतरी नाव, IAF के हेलीकॉप्टर से गिराए जा रहे हैं फूड पैकेट
लोगों को जेसीबी के सहारे सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है. (तस्वीर- ANI)

पटना : बिहार में बाढ़ के बाद अब बारिश (Bihar Rain) से लोगों का हाल बेहाल है. जलभराव के चलते राजधानी पटना (Patna) की सड़कों पर नावें उतर गई हैं. कई इलाकों में छह से 10 फीट तक पानी जमा है. कमोबेश हर जगह यही मंजर है. राजधानी पटना समेत अन्य कई जिलों के शिक्षण संस्थाओं को बंद कर दिया गया है. बारिश से अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है.

पटना के कई इलाकों में सड़कों के साथ-साथ घरों, अस्पतालों में पानी घुस गया है और सड़कों पर नावें चल रही हैं. राहत की बात है कि सोमवार को बारिश नहीं हुई. हालांकि मौसम विभाग ने बारिश के आसार जताए हैं. इधर, आपदा प्रबंधन विभाग का दावा है कि राहत और बचाव कार्य चलाए जा रहे हैं.

बिहार के आपदा प्रबंधन विभाग के मंत्री लक्ष्मेश्वर राय ने सोमवार को बताया कि राज्य में अलग-अलग हादसों में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से मांगे गए दो हेलीकॉप्टर पटना पहुंच चुके हैं. उन्होंने कहा कि घर में फंसे लोगों के लिए फूड पैकेट गिराने का कार्य चलाया जाएगा. शहर में जलनिकासी के लिए डिवाटरिंग पंप लगाया गया है, जिससे जल्द ही पानी निकासी हो सकेगी. राजधानी के राजेंद्र नगर सहित कई निचले इलाकों में दुकानें बंद होने से लोगों को जरूरी सामान खरीदना भी मुश्किल हो गया है. 

पटना जिला प्रशासन के मुताबिक, पटना में जलजमाव वाले क्षेत्रों से 25 हजार से ज्यादा लोगों को निकाला गया है. पटना में जलजमाव वाले क्षेत्रों में खाने के पैकेट बंटवाया जा रहा है. जिलाधिकारी कुमार रवि ने बताया कि अब तक 1700 खाने के पैकेट बंटवाए जा चुके हैं. एक पैकेट में चूड़ा, चना दूध के पाउडर दिए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि राहत कार्य में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और ट्रैक्टरों को लगाया गया है. कई इलाकों में नाव से राहत टीम पहुंच रही है. 

इस बीच, कई छात्रावासों और लॉजों में पानी घुस जाने के कारण पटना में रहने वाले छात्रों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है. छात्र अब पलायन करने लगे हैं. इस बीच, कई इलाकों में अब तक राहत के लिए कोई उपाय नहीं किया गया है. राजेंद्र नगर और कंकड़बाग के कई इलाकों के रहने वाले लोग अभी भी राहत कार्य का इंतजार कर रहे हैं. पटना के राजेंद्र नगर में आम से लेकर खास तक के घरों में बारिश का पानी घुस गया है. 

उल्लेखनीय है कि बिहार के अधिकांश क्षेत्रों में पिछले पांच दिनों से हो रही बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त है. इस बीच अगले 24 घंटे के दौरान भी मौसम विभाग ने कई इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी देते हुए अलर्ट जारी किया है. पिछले 24 घंटे के दौरान पटना में 91.60 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है. 

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, पिछले 24 घंटे के दौरान पूर्णिया में 174.94 मिलीमीटर, भागलपुर में 92.80 मिलीमीटर तथा गया में 20.60 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है.