अगर सरकारी सेवक की हो जाती है कोरोना से मौत, रिटायरमेंट तक मिलेगा परिवार को पूरा वेतन

उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल्स में क्वालिटी ऑफ ट्रीटमेंट बढ़ाने पर विशेष बल दिया गया है और लोगों को एडमिट होने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो, इसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. 

अगर सरकारी सेवक की हो जाती है कोरोना से मौत, रिटायरमेंट तक मिलेगा परिवार को पूरा वेतन
अगर सरकारी सेवक की हो जाती है कोरोना से मौत, रिटायरमेंट तक मिलेगा परिवार को पूरा वेतन.

पटना: बिहार की राजधानी पटना में वीडियो कॉंन्फ्रेसिंग के जरिए मीडिया से संवाद करते हुए सूचना व जनसंपर्क विभाग के सचिव अनुपम कुमार ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं विभिन्न नदियों के जलस्तर को लेकर सरकार द्वारा किये जा रहे कार्यों के संबंध में अद्यतन जानकारी दी.

सचिव अनुपम कुमार ने बताया कि कोविड-19 एवं बाढ़ की वर्तमान स्थिति को लेकर प्रतिदिन गहन समीक्षा कर सुधारात्मक कार्रवाई के लिए सभी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं. टेस्टिंग की संख्या लगातार बढ़ायी जा रही है और अब सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर डिमांड बेस्ड टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है.

उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल्स में क्वालिटी ऑफ ट्रीटमेंट बढ़ाने पर विशेष बल दिया गया है और लोगों को एडमिट होने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो, इसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. 

सरकार ने यह निर्णय लिया है कि कोविड-19 संक्रमण के कारण अगर दुर्भाग्यवश किसी सरकारी सेवक की मृत्यु हो जाती है और यदि उनके परिजन अनुकंपा का लाभ नहीं लेना चाहते हैं तो उनके रिटायरमेंट की तिथि तक उनके परिवार को पूरा वेतन मिलेगा. इसे विशेष पारिवारिक पेंशन कहा जाएगा और उसके बाद पारिवारिक पेंशन भी मिलेगी. सरकार के स्तर से जो भी सहायता संभव है, वह दी जायेगी, इसके लिए सरकार लगातार आवश्यक कार्रवाई कर रही है.

स्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि कोरोना से पिछले 24 घंटे में 1,536 लोग स्वस्थ हुए हैं और अब तक 27,844 लोग कोविड-19 संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं. इस प्रकार बिहार का रिकवरी रेट 67.73 प्रतिशत है. 

26 जुलाई से अब तक कोविड-19 के 812 मामले प्रतिवेदित हुए हैं, जबकि 25 जुलाई एवं पूर्व के 1,380 कोरोना संक्रमण के नये मामले भी सामने आये हैं. वर्तमान में बिहार में कोविड-19 के 13,011 एक्टिव मरीज हैं. उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में 14,236 सैंपल्स की जांच की गई है और अब तक की गयी कुल जांच की संख्या 4,70,560 है.

लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि जांच की संख्या अधिक से अधिक बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग निरंतर प्रयत्नशील है ताकि लोगों की डिमांड बेस्ड जांच सुलभ तरीके से की जा सके. इसके लिए सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर रैपिड एंटीजन किट्स उपलब्ध कराये गये हैं और पीएचसी लेवल पर ही रिपोर्ट उपलब्ध कराने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है. कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर विशेष जोर दिया गया है ताकि ज्यादा से ज्यादा जांच हो सके.

पुलिस मुख्यालय के अपर पुलिस महानिदेशक जितेन्द्र कुमार ने बताया कि सरकार की ओर से 1 जुलाई से लागू अनलॉक-2 के तहत जारी गाइडलाइन्स का अनुपालन कराया जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 01 कांड दर्ज किया गया है और 06 व्यक्तियों की गिरफ्तारी हुई है. 

इस दौरान 825 वाहन जब्त किये गये हैं और 18 लाख 65 हजार 700 रूपये की राशि जुर्माने के रुप में वसूल की गई है. इस प्रकार 1 जुलाई से अब तक 38 कांड दर्ज किये गये हैं और 40 व्यक्तियों की गिरफ्तारी हुई है. कुल 22,143 वाहन जब्त किए गए हैं और करीब 05 करोड़ 21 लाख रुपए की राशि जुर्माने के रूप में वसूल की गयी है. 

उन्होंने बताया कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं पहनने वाले लोगों पर भी लगातार कार्रवाई की जा रही है. पिछले 24 घंटे में मास्क नहीं पहनने वाले 12,152 व्यक्तियों से 06 लाख 07 हजार 600 रूपये की राशि जुर्माने के रूप में वसूल की गयी है. 

इस प्रकार 05 जुलाई से अब तक मास्क नहीं पहनने वाले 1,20,210 व्यक्तियों से 60 लाख 10 हजार 500 रूपये की जुर्माना राशि वसूल की गयी है. कोविड-19 से निपटने के लिये उठाये जा रहे कदमों और नये दिशा-निर्देशों का पालन करने में अवरोध पैदा करने वालों के खिलाफ सख्ती से कदम उठाये जा रहे हैं.