उपेंद्र कुशवाहा के बयान पर JDU का पलटवार, 'सीएम कुर्सी रसगुल्ला नहीं एक जिम्मेदार पद'

जेडीयू नेता अजय आलोक ने कहा कि सीएम कुर्सी कोई रसगुल्ला नहीं है जो खाते-खाते मन भर गया और छोड़ दिया. यह पद एक जिम्मेदारी का पद है. 

उपेंद्र कुशवाहा के बयान पर JDU का पलटवार, 'सीएम कुर्सी रसगुल्ला नहीं एक जिम्मेदार पद'
जेडीयू नेता अजय आलोक ने उपेंद्र कुशवाहा पर पलटवार किया है. (फाइल फोटो)

रोहतासः आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बायन पर जेडीयू नेता ने पलटवार किया है. उपेंद्र कुशवाहा ने बुधवार को कहा था कि सीएम नीतीश कुमार अब मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि सीएम पद से नीतीश कुमार का मन भर गया है. इस बयान पर जेडीयू नेता ने कहा कि सीएम पद कोई रसगुल्ला नहीं है जो खाते-खाते मन भर गया.

उपेंद्र कुशवाहा के बयान के बाद सियासत तेज हो गई है. माना जा रहा है कि उपेंद्र कुशवाहा ने सीएम कुर्सी पर बयान देकर अपना दावा इस पद के लिए ठोक दिया है. वहीं, जेडीयू प्रवक्ता अजय आलोक ने गुरुवार को रोहतास के बिक्रमगंज में कुशवाहा के बयान पर पलटवार किया है.

अजय आलोक ने कहा कि सीएम कुर्सी कोई रसगुल्ला नहीं है जो खाते-खाते मन भर गया और छोड़ दिया. यह पद एक जिम्मेदारी का पद है. जिसे नीतीश कुमार 15 साल से निभा रहे हैं. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को जनता ने सीएम बनाया है तथा जब तक जनता चाहेगी, तब तक वे मुख्यमंत्री रहेंगे.

अजय आलोक ने कहा कि अभी 10 से 15 साल सीएम नीतीश कुमार ही रहेंगे क्योंकि जब तक वह शारीरिक तथा मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे, जनता की आकांक्षाओं पर खरे उतरते रहेंगे. जनता भी उन्हें चुनती रहेगी.

गौरतलब है कि उपेंद्र कुशवाहा ने बुधवार को पटना में एक कार्यक्रम में संबोधन के दौरान खुल कर कई मुद्दों पर बात की. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने कई बार भारी मन से कहा है कि वह अब सीएम पद नहीं चाहते हैं. अब 15 साल सीएम रह चुके हैं. अब मन के अंदर इसके लिए इच्छा नहीं है. अब सीएम का स्थान खाली होने वाला है.

वहीं, उन्होंने नीतीश कुमार को अपना बड़ा भाई बताते हुए कहा कि वह मेरे हमेशा से बड़े भाई रहे हैं. लेकिन उनके हमारे रिश्तों का हमेशा गलत मतलब निकाला जाता है. जेडीयू प्रवक्ता भी हमारे रिश्तों पर बोलते हैं. लेकिन उनसे कहूंगा कि वह हमारे रिश्तों के बीच नहीं आएं. वह धोखा खा जाएंगे.