close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कैमूर: खरीफ महाअभियान महोत्सव की शुरूआत, कृषि वैज्ञानिक से रूबरू हुए किसान

परियोजना निदेशक ने बताया किसानों को सरकार से मिलने वाली अनुदानित बीज इस बार जो मिलेगा उसमें किसान को सब्सिडी काटकर पैसा जमा कर धान का बीज लेना होगा.

कैमूर: खरीफ महाअभियान महोत्सव की शुरूआत, कृषि वैज्ञानिक से रूबरू हुए किसान
कैमूर जिले में आज खरीफ महा अभियान महोत्सव का शुभारंभ किया गया.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

कैमूर: बिहार के कैमूर जिले के कुदरा प्रखंड मुख्यालय में आज खरीफ महा अभियान महोत्सव का शुभारंभ किया गया. जिसमें जिला से आए परियोजना निदेशक और कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को कम खर्चे पर अच्छी पैदावार का गुर बताया. वहीं, कुदरा प्रखंड के किसान सरकार से मिलने वाली सब्सिडी खाते में पिछले 2 सालों से नहीं आने को लेकर नाराजगी भी जाहिर की.

परियोजना निदेशक ने बताया किसानों को सरकार से मिलने वाली अनुदानित बीज इस बार जो मिलेगा उसमें किसान को सब्सिडी काटकर पैसा जमा कर धान का बीज लेना होगा. कितने एकड़ की खेती में कितने धान का बीज डालना चाहिए, कौन-कौन से दवाओं का छिड़काव और किस किस रोग में करना चाहिए संबंधित जानकारियां दी. 

 

उन्होंने बताया कि कुदरा प्रखंड के सभी पंचायतों के लिए किसानों को एक टारगेट दिया गया है, टारगेट को पूरा करने के लिए जागरूक भी किया गया. वहीं, किसानों ने आरोप लगाया कि जब भी कार्यशाला होता है जिला प्रशासन चिकनी चुपड़ी बातें कर कर चला जाता है. लेकिन किसानों को कोई लाभ नहीं मिलता. बल्कि इसका लाभ बिचौलियों उठा लेते हैं. 

वर्ष 2014 - 15 से अब तक मिलने वाली सारी योजनाएं का शुल्क किसान सब्सिडी सहित जमा करते थे, और उसका सब्सिडी खाता में आने की बातें कही गई थी. जो छलावा साबित हुआ. अभी तक किसानों के खातों में सब्सिडी के पैसे नहीं आए. जिससे पूरी तरह से जनता के बीच असंतोष है .