close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सरायकेला मॉब लिंचिंग : DC ने सौंपी गृह विभाग को रिपोर्ट, अब तक 5 गिरफ्तार

इस घटना को लेकर झारखंड अल्पसंख्यक आयोग भी गंभीर है. आज यानी मंगलवार को आयोग के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष सरायकेला आएंगे और पदाधिकारियों से पूरी जानकारी लेंगे. दोनों तवरेज के घर भी जाएंगे.

सरायकेला मॉब लिंचिंग : DC ने सौंपी गृह विभाग को रिपोर्ट, अब तक 5 गिरफ्तार
सरायकेला मॉब लिंचिंग मामले में गृह विभाग को सौंपी रिपोर्ट. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सरायकेला : झारखंड का सरायकेला मॉब लिंचिंग की वजह से इन दिनों सुर्खियों में बना हुआ है. खरसांवा जिले में कथित रूप से चोरी के शक में एक युवक को भीड़ ने बुरी तरह पीटा जिससे उसकी मौत हो गई. इस घटना के के प्रकाश में आने के बाद पुलिस ने अभी तक पांच लोगों को हिरासत में लिया है. वहीं, सरायकेला डीसी ने राज्य के गृह विभाग को पूरी घटना की रिपोर्ट सौंपी है.

इस घटना को लेकर झारखंड अल्पसंख्यक आयोग भी गंभीर है. आज यानी मंगलवार को आयोग के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष सरायकेला आएंगे और पदाधिकारियों से पूरी जानकारी लेंगे. दोनों तवरेज के घर भी जाएंगे.

ज्ञात हो कि इस घटना को लेकर शुरुआती दौर में तो पुलिस चुप रही, लेकिन कथित आरोपी की मौत के बाद मामला तूल पकड़ लिया. पुलिस की लापरवाही सामने आने के बाद डीआईजी लेवल पर जांच की जा रही है. वहीं, पुलिस लगातार लोगों से पूछताछ और शक के आधार पर उनकी गिरफ्तारी कर रही है.

इस मामले में पहले दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था और पूछताछ की जा रही थी. वहीं, अब 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार लोगों में भीमशेन मंडल, प्रेमचंद महाली, कमल महतो, सोनामो प्रधान और मुख्य नामजद आरोपी प्रकाश मंडल उर्फ पप्पू मंडल शामिल है.

सरकार ने भी इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जल्द से जल्द जांच कर कार्रवाई करने का आदेश दिया है. जिसके तहत डीआईजी लेवल पर एसआईटी की टीम गठित की गई है. वहीं, थाना प्रभारी और ओपी प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है.

ज्ञात हो कि 17 जून को ही कथित रूप से चोर की भीड़ ने पिटाई की थी. पिटाई के 18 घंटे बाद उसे पुलिस को सौंप दिया गया. पुलिस ने इस मामला संज्ञान में आने के बाद भी किसी तरह की कार्रवाई नहीं की. पिटाई का वीडियो वायरल होने पर यह मामला आम लोगों के सामने आया. इसके बाद पुलिस और प्रशासन की नींद खुली. अल्पसंख्यक आयोग ने भी इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएम रघुवर दास से बातचीत की है.