पटना: जेडीयू की भोज में शामिल हुए सीएम नीतीश कुमार, जमकर हुई सियासी बयानबाजी

भोज में शामिल हुए नेताओं में जेडीयू नेता आरसीपी सिंह के अलावा मंत्री जय कुमार सिंह, मंत्री संजय झा, मंत्री अशोक चौधरी, नंद किशोर यादव, मंगल पांडेय और शिक्षामंत्री कृष्णनंदन वर्मा भी मौजूद थे.

पटना: जेडीयू की भोज में शामिल हुए सीएम नीतीश कुमार, जमकर हुई सियासी बयानबाजी
जेडीयू नेता के भोज में पहुंचे सीएम नीतीश कुमार.

पटना: बिहार की राजधानी में जेडीयू विधायक वशिष्ठ नारायण सिंह के घर चूड़ा-दही का प्रोग्राम रखा गया है. इस साल दही-चूड़ा का भोज जरा खास हो गया है जिसे सियासत की नजर से देखा जा रहा है. इसका एक कारण यह है कि बिहार में विधानसभा चुनाव है. इस भोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के अलावा बिहार सरकार के कई मंत्रियों ने शिरकत किया. 

भोज में शामिल हुए नेताओं में जेडीयू नेता आरसीपी सिंह के अलावा मंत्री जय कुमार सिंह, मंत्री संजय झा, मंत्री अशोक चौधरी, नंद किशोर यादव, मंगल पांडेय और शिक्षामंत्री कृष्णनंदन वर्मा भी मौजूद थे. हर साल मकर संक्रांति के मौके पर जेडीयू के वरिष्ठ नेता वशिष्ठ नारायण सिंह के यहां भोज का आयोजन किया जाता है. इस भोज में तमाम बड़े से बड़े नेता शिरकत करते हैं.

भोज में पहुंचे मंत्री जय कुमार सिंह ने कहा कि हर साल यह भोज आयोजित किया जाता है. अब इस चुनाव में एनडीए की जीत होगी. वहीं मंत्री विजय सिन्हा ने कहा कि भोज के बीच सियासत चलती रहेगी. इस दौरान जेडीयू नेता आरसीपी सिंह कहते हैं कि साल बदला है, लेकिन स्थितियां नहीं बदली हैं. 2019 के नतीजों जैसे परिणाम 2020 के चुनाव में भी रहेंगे. जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने भी 2020 विधानसभा चुनाव में जीत का दावा किया है.

वशिष्ठ नारायण सिंह की भोज में जेडीयू नेता आरसीपी सिंह के साथ पूर्व मंत्री भगवान सिंह कुशवाहा, ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव समेत जेडीयू के कई नेता और कार्यकर्ता भोज में दही-चूड़ा का लुत्फ उठा रहे हैं. इस दौरान आरजेडी के विधायक फराज फातमी भी पहुंचे थे जिसके बाद सियासी घमासान तेज हो गया था. फराज फातमी ने कहा कि महागठबंधन ने न्योता नहीं दिया, इसलिए वह महागठबंधन के भोज में शामिल नहीं हुए. जबकि वशिष्ठ नारायण सिंह ने उन्हें न्योता दिया था, इसलिए वे शामिल हुए.