close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था और पिछड़ी, नीति आयोग की सालाना रिपोर्ट में खुलासा

बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था के मामले में केरल टॉप पर और यूपी सबसे नीचे है. सूची में यूपी 20वें, उत्तराखंड 19वें और ओडिशा 18वें स्थान पर हैं.

बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था और पिछड़ी, नीति आयोग की सालाना रिपोर्ट में खुलासा
नीति आयोग की रिपोर्ट में बिहार और पिछड़ा. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/पटना : बिहार में जारी चमकी बुखार से तो सरकार की किरकिरी हो ही रही थी वहीं, अब नीति आयोग द्वारा स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर जारी रिपोर्ट भी निराशाजनक है. रिपोर्ट के मुताबिक, स्वास्थ्य के मामले में बिहार और पिछड़ रहा है. यानी पिछली बार की तुलना में यहां स्वास्थ्य के हालात और बिगड़े हैं. नीति आयोग की रिपोर्ट में इन्क्रीमेंटल रैंकिंग यानी पिछली बार के मुकाबले सुधार के स्तर के मामले में 21 बड़े राज्यों की सूची में बिहार सबसे नीचे है.

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और ओडिशा की रैंकिंग भी बहुत अच्छी नहीं है. हालांकि बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था के मामले में केरल टॉप पर और यूपी सबसे नीचे है. सूची में यूपी 20वें, उत्तराखंड 19वें और ओडिशा 18वें स्थान पर हैं.

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2015-16 की तुलना में 2017-18 में स्वास्थ्य क्षेत्र में बिहार का संपूर्ण प्रदर्शन सूचकांक 6.35 अंक गिरा है. इसी दौरान उत्तर प्रदेश के प्रदर्शन सूचकांक में 5.08 अंक, उत्तराखंड 5.02 अंक तथा ओड़िशा के सूचकांक में 3.46 अंक की गिरावट आई है. पिछली बार तुलना में सुधार और कुल मिलाकर बेहतर प्रदर्शन के आधार पर राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों की रैंकिंग तीन श्रेणी में की गई है.

पहली श्रेणी में 21 बड़े राज्यों, दूसरी श्रेणी में आठ छोटे राज्यों और तीसरी श्रेणी में केंद्र शासित प्रदेशों को रखा गया है.