गुमला: ACB के हत्थे चढ़ी महिला अधिकारी, रंगे हाथ रिश्वत लेते हुई गिरफ्तार

कार्यवाही के दौरान न केवल सीडीपीओ के हांथों को धुलाकर रसायन लगे नोटों के माध्यम से आरोप की पुष्टि की गई, बल्कि आरोपी अधिकारी के कार्यालय के फाइलों को भी खंगाला गया.

गुमला: ACB के हत्थे चढ़ी महिला अधिकारी, रंगे हाथ रिश्वत लेते हुई गिरफ्तार
एसीबी ने महिला अधिकारी को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गुमला: झारखंड के गुमला जिला में भ्रष्टाचार चरम पर है. गुरुवार को एसीबी के हत्थे चढ़ी सीडीपीओ, 25000 रुपए रिश्वत लेते रंगे पकड़ा गया. एसीबी ने सीडीपीओ को गिरफ्तार कर  लिया. जानकारी के मुताबिक, रांची एसीबी की टीम ने बसिया प्रखंड सह अंचल कार्यालय स्थित सीडीपीओ कार्यालय कक्ष में छापा मारकर सीडीपीओ अर्पणा कर्मकार को 25 हजार रुपए अग्रिम रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया. यह गिरफ्तारी आंगनबाड़ी सेविका के चयन के लिए सीडीपीओ पर बतौर रिश्वत 50 हजार रुपए मांगने के आरोप पर एसीबी रांची के द्वारा की गई.

जानकारी के अनुसार, बारला की इस शिकायत के बाद चार दिन पूर्व ही इंस्पेक्टर नवीन पासवान ने मामले की पुष्टि हेतु सीडीपीओ कार्यालय का दौरा किया था. गुरुवार को हुई कार्यवाही के बाद सीडीपीओ को गिरफ्तार कर लिया गया. कार्यवाही के दौरान न केवल सीडीपीओ के हांथों को धुलाकर रसायन लगे नोटों के माध्यम से आरोप की पुष्टि की गई, बल्कि आरोपी अधिकारी के कार्यालय के फाइलों को भी खंगाला गया.

रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार सीडीपीओ अर्पणा कर्मकार ने तमाम साक्ष्यों के बाद भी इस आरोप को मानने से इनकार कर दिया. आरोपी अपर्णा ने कहा कि बगैर मांगे उनके चैंबर में रकम रखकर उसे एक साजिश के तहत फंसाया गया है.

सीडीपीओ की गिरफ्तार के बाद बसिया अंचल व प्रखंड कार्यालय में हडकंप मच गया.सीडीपीओ को गिरफ्तार करने वाली इस टीम में डीएसपी राकेश नयन मिंज, इंस्पेक्टर नवीन प्रसाद, राजेश कुमार सिन्हा, मुकेश, पुष्पलता, शकुंतला आदि शामिल थे. वहीं, अपर्णा पर एसीबी की कार्रवाई के कारण यहां हड़कंप मच गया.

वहीं, गिरफ्तार सीडीपीओ ने कहा कि उसे साजिस के तरह फसाया गया है. उसे पांच महीने से सैलरी नही मिली थी. जिसके चलते उधारी मांगी गई थी. वहीं, एसीबी की टीम ने बताया की अधिकारी की शिकायत मिलने के बाद दो रोज पहले जांच किया गया और गुरुवार को 25000 रुपए के साथ गिरफ्तार किया गया.