बिहार: पैरेंट्स की डिमांड से डॉक्टर परेशान, हर किसी को है Baby 2020 की चाह

पटना में कई ऐसे माता-पिता हैं जो अपने बच्चे की डिलीवरी नए साल में कराना चाहते हैं. इसको लेकर क्लीनिकों में काफी भीड़ भी देखने को मिल रही है.

बिहार: पैरेंट्स की डिमांड से डॉक्टर परेशान, हर किसी को है Baby 2020 की चाह
क्लीनिक में मरीजों की लंबी भीड़ देखने को मिल रही है.

पटना: नए साल के आने में अब महज कुछ ही घंटे बचे हैं. ऐसे में सभी नए साल के जश्न को लेकर अपने-अपने तरीके से तैयारी भी कर रहे हैं. लेकिन सबसे खास नया साल उनके लिए रहने वाला है जिनका बच्चा नए साल में दुनिया में आने जा रहा है.

दरअसल, पटना में कई ऐसे माता-पिता हैं जो अपने बच्चे की डिलीवरी नए साल में कराना चाहते हैं. इसको लेकर क्लीनिकों में काफी भीड़ भी देखने को मिल रही है. पटना की जानी-मानी गायनकोलॉजिस्ट डॉक्टर सारिका राय इन दिनों काफी व्यस्त हैं.

साल खत्म होनेवाला और इनके क्लीनिक में मरीजों की भीड़ खत्म होने का नाम नहीं ले रही. इसके पीछे की वजह भी खास है. इनकी क्लीनिक में ज्यादातर पैरेंट्स ये पूछने के लिए पहुंच रहे हैं कि उनका बच्चे नए साल में आएगा या फिर मौजूदा साल में ही डिलीवरी करानी होगी. साथ ही बच्चे की डिलीवरी एक जनवरी को हो सकती है या नहीं.

डाक्टर सारिका राय कहती हैं कि ज्यादातर पैरेंट्स खास तारीख को ही अपने बच्चे की डिलीवरी कराना चाहते हैं. जैसे- जन्माष्टमी हो या फिर पैरेंट्स के जन्मदिन के दिन या फिर नए साल की एक जनवरी के दिन. ये दिन यादगार होते हैं.

उन्होंने कहा कि हम लोग भी ये देखते हैं कि मेडिकल टर्म के अनुसार वो दिन डिलीवरी के लिए उचित है या नहीं. अगर दिन समय उचित होता है तो मनचाही तारीख को डिलीवरी हो जाती है.

डाक्टर सारिका राय की क्लीनिक में 5 पैरेंट्स ऐसे हैं जिनके बच्चे की डिलीवरी 31 दिसंबर को होनी है. लेकिन वो चाहते हैं कि उनका बच्चा नए साल यानी 1 जनवरी 2020 को इस दुनिया में आए. क्योकि नए साल की खुशी तो होगी ही. साथ में बच्चे की खुशी, डबल बोनस जैसा होगा. 

बता दें कि ये कहानी सिर्फ एक क्लिनिक या निर्सिंग होम की नहीं है. पटना के कई गायनकोलॉजिस्ट के पास ऐसे ही डिमांड्स के साथ पैरेंट्स पहुंच रहे हैं. नये साल में बेबी 2020 की चाहत ने पटना में एक नये ट्रेंड को डेवलप कर दिया है.