close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची: आंगनबाड़ी सेविकाओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, बैठी थीं भूख हड़ताल पर

राजभवन के समक्ष 16 सितंबर से आंगनबाड़ी सेविका सहायिका भूख हड़ताल पर बैठी हैं. इन्हीं मांगों को लेकर मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने के लिए सेविका सहायिका जा रहीं थीं.

रांची: आंगनबाड़ी सेविकाओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, बैठी थीं भूख हड़ताल पर
अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने के लिए सेविका सहायिका जा रहीं थीं.

रांची- झारखंड की राजधानी रांची में मुख्यमंत्री आवास घेराव करने गई आंगनबाड़ी सेविका एवं सहायिकाओं पर पुलिस के द्वारा की लाठीचार्ज किया गया. राजभवन के समक्ष 16 सितंबर से आंगनबाड़ी सेविका सहायिका भूख हड़ताल पर बैठी हैं. इन्हीं मांगों को लेकर मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने के लिए सेविका सहायिका जा रहीं थीं. 

दरअसल सेविकाएं मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जा रही थीं. इस दौरान पुरुष पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की. एक महिला ने विरोध जताया तो पुलिसकर्मियों ने उसपर ताबड़तोड़ लाठी चला दी.

 

उनकी मुख्य मांगों में सेविकाओं और सहायिकाओं के लिए नियमावली बनाना, उन्हें तृतीय और चतुर्थवर्गीय कर्मचारी का दर्जा दिया जाना, सामान काम सामान्य वेतन लागू करना, सेविकाओं को 18 हजार तथा सहायिकाओं को नौ हजार रुपये के अलावा 10-10 हजार और पांच-पांच हजार रुपये का अतिरिक्त मानदेय दिया जाना शामिल है.

साथ ही उनकी मांग है कि सेवानिवृत्ति की उम्र सीमा 65 साल, सेवानिवृत्ति के बाद पांच लाख रुपये का एकमुश्त आर्थिक लाभ के अलावा पेंशन, कार्यावधि में मृत्यु होने पर बहू अथवा बेटी की अनुकंपा पर बहाली, हड़ताल अवधि का मानदेय सुनिश्चित करना भी इसमें शामिल है.