शहीद के परिजनों से मिले पप्पू यादव, बेटी की शादी और बेटे की पढ़ाई की ली जिम्मेदारी

सांसद शहीद हेड कांस्टेबल संजय कुमार सिन्हा के आवास पहुंचे और उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर नम आखों से उन्हें श्रद्धांजलि दी.

शहीद के परिजनों से मिले पप्पू यादव, बेटी की शादी और बेटे की पढ़ाई की ली जिम्मेदारी
शहीद के परिजनों को की आर्थिक मदद.

पटना : पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए पटना के मसौढ़ी के जवान संजय कुमार सिन्हा के परिजनों से मंगलवार को जन अधिकार पार्टी के प्रमुख और सांसद पप्पू यादव ने मुलाकात की. सांसद ने शहीद के परिजनों को नकद एक लाख रुपये की आर्थिक मदद दी. उन्होंने शहीद की पत्नी, माता-पिता से मिलकर दुख की घड़ी में परिवार के साथ होने का भरोसा दिया.

सांसद शहीद हेड कांस्टेबल संजय कुमार सिन्हा के आवास पहुंचे और उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर नम आखों से उन्हें श्रद्धांजलि दी. सांसद ने मेडिकल की तैयारी कर रहे शहीद संजय के पुत्र ओमप्रकाश का मेडकिल में दाखिला और उनकी बेटी की शादी का खर्चा उठाने की घोषणा की.

सोमवार को पप्पू यादव ने भागलपुर के शहीद रतन कुमार ठाकुर के परिजनों से मिलकर भी एक लाख रुपये की आर्थिक मदद दी थी और उनके बच्चों को केंद्रीय विद्यालय में दाखिला करवाने का आश्वासन दिया था.

इस मौके पर उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार के शहीदों के प्रति रवैये पर भी सवाल खड़े किया. उन्होंने कहा कि नेताओं को शहीदों से कोई मतलब नहीं है. उन्हें शहीदों पर राजनीति बंद करनी चाहिए. 

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, "आखिर क्या वजह है कि उरी के शहीदों की विधवाएं आज भी ठोकरें खा रही हैं, उन्हें अब तक कोई सहायता नहीं मिल पाई है. सरकार में अगर हिम्मत है तो वह ये तय कर दे कि सांसद और विधायक शहीद के ही परिवार से होंगे."

उन्होंने पुलवामा हमले को सुरक्षा एजेंसी की चूक का परिणाम बताते हुए कहा कि अगर सुरक्षा में ऐसी चूक ना होती तो आज हमारे सभी जवान हमारे साथ होते. पप्पू यादव ने कहा कि हमले के बाद जिस तरह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लगातार शिलान्यास कार्यक्रम में व्यस्त हैं, वो उनको बिल्कुल शोभा नहीं देता. 

उन्होंने कहा कि कि अभी पूरा देश बदले की आग में जल रहा है और देश का प्रधानमंत्री उद्घाटनों में व्यस्त है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शहीद के परिवार के साथ खुल कर नहीं आ रहे हैं.