close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूपी में सपा-बसपा ने किया कांग्रेस से किनारा, समर्थन देने पहुंचेंगे तेजस्वी यादव

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सपा-बसपा के गठबंधन पर खुशी जाहिर की है. और इसे लेकर वह अपना समर्थन देने रविवार रात को वह लखनऊ जाएंगे.

यूपी में सपा-बसपा ने किया कांग्रेस से किनारा, समर्थन देने पहुंचेंगे तेजस्वी यादव
तेजस्वी यादव लखनऊ में अखिलेश यादव और मायावती से मुलाकात करेंगे. (फाइल फोटो)

पटनाः यूपी में सपा-बसपा का गठबंधन होने के बाद से देश में सियासत तेज हो गई है. वहीं, कांग्रेस को इस गठबंधन में केवल 2 सीट दिए जाने के बाद से राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है. हालांकि इस गठबंधन को सही बताया जा रहा है लेकिन कांग्रेस को अलग रखने को लेकर सपा-बसपा को नसीहत दी जा रही है. वहीं, बिहार में भी इसपर सियासत तेज हो गई है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने सपा-बसपा के गठबंधन पर खुशी जाहिर की है. और इसे लेकर वह अपना समर्थन देने रविवार रात को वह लखनऊ जाएंगे.

सपा-बसपा गठबंधन को समर्थन देने के लिए तेजस्वी यादव लखनऊ जा रहे हैं. वह रविवार रात को लखनऊ के लिए रवाना होंगे. सपा-बसपा गठबंधन से कांग्रेस को बाहर रखा गया है. जिस पर तेजस्वी यादव ने कहा है कि महागठबंधन का सपना लालू यादव ने देखा था. जो अब साकार होते नजर आ रहा है.

सपा-बसपा गठबंधन पर उन्होंने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि अब यूपी में बीजेपी की हार की शुरुआत हो चुकी है. वहीं, कांग्रेस के साथ सपा-बसपा का गठबंधन नहीं होने पर उन्होंने कहा कोई फर्क नहीं पड़ता है. यह दोनों पार्टियां ही बीजेपी को हराने के लिए काफी है. वहीं, अब तेजस्वी यादव खुद लखनऊ जाकर इस गठबंधन को समर्थन देंगे.

हालांकि तजेस्वी यादव द्वारा यूपी में सपा-बसपा को समर्थन देने की बात से राजनीति भी शुरू हो गई है. वहीं, कयास लगाया जा रहा है कि तेजस्वी यादव शायद कांग्रेस को गठबंधन में शामिल करने को लेकर भी वकालत कर सकते हैं. बताया जा रहा है कि तेजस्वी यादव लखनऊ में मायावती और अखिलेश यादव से अलग-अलग मुलाकात करेंगे.

आपको बता दें कि कांग्रेस को सपा-बसपा गठबंधन से अलग रखे जाने पर बिहार महागठबंधन के नेता भी सही नहीं ठहरा रहे हैं. आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी कहा है कि सपा-बसपा गठबंधन सही है. लेकिन कांग्रेस को इससे अलग रखना ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि सपा-बसपा ने केवल प्रदेश का ख्याल किया है, देश का ख्याल नहीं किया है.

वहीं, शरद यादव ने भी कहा कि गठबंधन तो ठीक है लेकिन सभी दलों को एक साथ लेकर चला जाता तो ज्यादा अच्छा होता. कांग्रेस भी यूपी में और आरएलडी भी है, इसलिए सभी एक साथ होते तो मजबूद गठबंधन होता. जीतनराम मांझी ने भी सपा-बसपा को नसीहत दी की कांग्रेस को कम आंकने की भूल वह न करें. कांग्रेस ने तीन राज्यों में अकेले चुनाव लड़ा था जिसका नतीजा सबके सामने है.