close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना की जगह मधुपुर से संपूर्ण क्रांति को चलाने का प्रस्ताव, आठ सांसदों ने किया जमकर विरोध

बैठक में पहुंचे 8 सांसद और 5 सांसद के प्रतिनिधियों ने इसका पुरजोर विरोध किया. पाटलिपुत्र सांसद रामकृपाल यादव ने कहा की किसी भी कीमत पर पटना से खुलने वाली सम्पूर्ण क्रन्ति एक्सप्रेस को मधुपुर नहीं जाने दिया जाएगा.

पटना की जगह मधुपुर से संपूर्ण क्रांति को चलाने का प्रस्ताव, आठ सांसदों ने किया जमकर विरोध
सम्पूर्ण क्रांति को पटना की जगह मधुपुर पश्चिम बंगाल से खोले जाने का जमकर विरोध हुआ है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: बिहार के दानापुर मंडल कार्यालय में पूर्व मध्य रेलवे के जीएम ललित चंद्र द्विवेदी और डीआरएम रंजन पीकास ठाकुर के साथ मंडल संसदीय समिति की बैठक की गई. बैठक में सम्पूर्ण क्रांति को पटना की जगह मधुपुर पश्चिम बंगाल से खोले जाने का जमकर विरोध हुआ है. 

बैठक में पहुंचे 8 सांसद और 5 सांसद के प्रतिनिधियों ने इसका पुरजोर विरोध किया. पाटलिपुत्र सांसद रामकृपाल यादव ने कहा की किसी भी कीमत पर पटना से खुलने वाली सम्पूर्ण क्रन्ति एक्सप्रेस को मधुपुर नहीं जाने दिया जाएगा. इसके लिए पूर्व मध्य रेलवे के जीएम से और रेल मंत्री को भी बोला गया है. उन्होंने कहा है कि इसे पटना में रोकने के लिए किसी हद तक जाएंगे और जो करना पड़ेगा करेंगे. 

 

रामकृपाल के आवाज उठाने के बाद बैठक में मौजूद स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे, बीजेपी के वरिष्ठ सांसद सीपी ठाकुर, कई सांसदों सहित उनके प्रतिनिधियों ने भी रामकृपाल का साथ देते हुए विरोध किया और सांसद निशिकांत दुबे को भी चेताया. 

सभी ने कहा कि मधुपुर से सम्पूर्ण क्रांति को खोलने से बढ़िया है कि वहां से एक नई ट्रेन ही दे दें ताकि सभी को सुविधा मिल सके और बवाल से बचा जा सके. अश्विनी चौबे ने कहा कि सम्पूर्ण क्रन्ति से हमारा अस्तित्व जुड़ा है.

वहीं, इस मामले पर जीतन राम मांझी ने कहा कि संपूर्ण क्रांति बिहार के लिए लाइफलाइन की तरह है. हर सांसद और विधायक चाहता है कि उसके इलाके से अच्छी ट्रेन चले. निशिकांत दुबे को दूसरी ट्रेन की बात करनी चाहिए. 

केसी त्यागी ने संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस को लेकर मचे बवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जेडीयू हमेशा से बिहार के हितों के साथ रही है और इस बार भी यही स्टैंड है कि बिहार के लोगों के भाव का सम्मान होना चाहिए.