Bihar: वैशाली के सपूत रंजन कुमार का कारनामा, दांतों से खींचा ट्रक

Vaishali News: रंजन कुमार ने दांतों से 130 किलोग्राम वजह उठाया और नया कीर्तिमान बनाया. रंजन के इस कारनामे की वजह से उनका नाम 'इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड' में दर्ज हो गया. 

Bihar: वैशाली के सपूत रंजन कुमार का कारनामा, दांतों से खींचा ट्रक
Bihar: वैशाली के सपूत रंजन कुमार का कारनामा, दांतों से खींचा ट्रक

Vaishali: वैशाली के रंजन कुमार ने ना सिर्फ जिले का नाम रौशन किया है, बल्कि खुद की अलग पहचान बनाई है. रंजन कुमार के कारनामें से पूरा बिहार गौरवान्वित है. रंजन कुमार ने वेटलिफ्टिंग में बड़ी कामयाबी हासिल की है और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड (India Book of Record) में नाम दर्ज कराया है.

रंजन कुमार ने दांतों से 130 किलोग्राम वजह उठाया और नया कीर्तिमान बनाया. रंजन के इस कारनामे की वजह से उनका नाम 'इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड' में दर्ज हो गया. रंजन कुमार ने दांतों से ट्रक खींचकर भी लोगों को हैरान किया. रंजन ने बिठौली के पास हाजीपुर-मुजफ्फरपुर हाईवे पर दांतों से करीब 200 मीटर तक ट्रक खींचा. रंजन के इस कारनामे को देखकर लोग दंग रह गए. लोगों को अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हुआ. ये पहली बार नहीं है, जब रंजन कुमार ने ट्रक खींचकर लोगों को अचंभित किया है.

ab

ये भी पढ़ें- COVID-19 से बिगड़ रहे है हालात, कहीं 'लापरवाही' बन ना जाए जानलेवा

पिछले दिनों हाजीपुर के रामाशीष चौक पर रंजन ने दांतों से ट्रक खींचा था. रंजन कुमार की इस उपलब्धि पर वैशाली का हर व्यक्ति गौरवान्वित महसूस कर रहा है. महुआ के विधायक डॉ. मुकेश रौशन ने रंजन कुमार को फूल-माला से सम्मानित किया. इतना ही नहीं, विधायक डॉ. मुकेश रौशन ने रंजन कुमार की आर्थिक मदद भी की. डॉ. मुकेश ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि रंजन पूरी दुनिया में वैशाली और बिहार का नाम रौशन करेगा.

bc

वहीं, रंजन कुमार ने कहा कि समय-समय कुछ लोग आर्थिक मदद कर देते हैं, लेकिन रेगुलर मदद की दरकार है. रंजन कुमार कुमार का सपना 'गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड' (Guinness Book of World Records) में अपना नाम दर्ज कराने का है. रंजन कुमार ने कहा कि अगर उनको सहयोग मिला तो वो ये कारनामा कर दिखाएंगे. रंजन कुमार दांतों से भारत की सबसे लंबी ट्रेन खींचना चाहते हैं और गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराना चाहते हैं. अगर समय पर जरूरी मदद मिले तो रंजन कुमार जरूर अपना सपना पूरा करेंगे और देश का नाम रौशन करेंगे.

ये भी पढ़ें- अगर कोरोना को देनी है मात तो घर ले आएं ये दवाइयां