MP: BJP नेता प्रभात झा का सिंधिया पर हमला, कहा- ज्योतिरादित्य हैं सबसे बड़े भू-माफिया

 भाजपा का सॉफ्ट कार्नर सिंधिया के साथ देखने को मिला, लेकिन पिछले दिनों प्रदेश में सिंधिया की सक्रियता बड़ने के बाद भाजपा उन पर हमलावर है. 

MP: BJP नेता प्रभात झा का सिंधिया पर हमला, कहा- ज्योतिरादित्य हैं सबसे बड़े भू-माफिया
राष्ट्रिय उपाध्यक्ष ने सिंधिया को बताया सबसे बड़ा भू माफिया

महेंद्र दुबे/दमोह: मध्यप्रदेश में पिछले कुछ दिनों से अचानक बड़ी कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की सक्रियता को लेकर जहां तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं, तो अब भाजपा भी सिंधिया पर हमलावर हो गई है. भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात ने सिंधिया पर संगीन आरोप लगाते हुए उन्हें सूबे का सबसे बड़ा भू-माफिया बताया है.

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस के मौजूदा राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री के रूप में देखा जा रहा था. लेकिन 'वक्त है बदलाव का' के नारे के बीच सूबे में कमलनाथ की ताजपोशी हुई तो मामला बदल गया. गाहे-बगाहे सिंधिया को लेकर अटकलों का दौर जारी रहा, तो बीच-बीच में सिंधिया के बयानों से लग रहा था की वो शायद पार्टी को अलविदा कह देंगे. 

इन सब बातों से भाजपा का सॉफ्ट कार्नर सिंधिया के साथ देखने को मिला, लेकिन पिछले दिनों प्रदेश में सिंधिया की सक्रियता बड़ने के बाद भाजपा उन पर हमलावर है. भाजपा के राष्ट्रिय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने सिंधिया पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा, सिंधिया प्रदेश में सबसे बड़े भू माफिया हैं और कमलनाथ को उनपर कार्रवाई करनी चाहिए. झा ने सिंधिया के पैतृक शहर ग्वालियर में उनके द्वारा किये अतिक्रमण को लेकर भी वार किया और कुछ जगह गिनवाई. झा ने कांग्रेस सरकार से सिंधिया के कब्जों को हटाने की बात कही.

बता दें कि प्रभात झा ने ये बयान दमोह में अपने निजी दौरे के दौरान दिया. उसी वक्त सिंधिया के खास माने जाने वाले प्रदेश सरकार के राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविन्द राजपूत भी दमोह में ही मौजूद थे. 

इन बयानों से तिलमिलाए कमलनाथ के मंत्री राजपूत ने झा पर पलटवार करते हुए कहा, ज्योतिरादित्य सिंधिया की बराबरी करने के लिए झा को चार-पांच जनम लेने पड़ेंगे. सिंधिया महराज हैं और उनके पास पुस्तैनी धन दौलत जमीन जायजाद है. उन्होंने ये भी कहा, ऐसे बयान या आरोप झा की छोटी मानसिकता है.

सिंधिया के खिलाफ सनसनीखेज आरोप लगाने के साथ ही भाजपा के तेवर तो स्पष्ट हो गए हैं, या सिंधिया की सक्रियता सूबे में रोकने के लिए भी ये एक चाल हो सकती है. सवाल ये जरूर है की जो आरोप भाजपा के एक दिग्गज नेता ने लगाए है क्या कमलनाथ अपनी पार्टी के एक दिग्गज नेता की जांच कराएंगे ?