close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ः बिस्किट की फैक्ट्री में कराई जा रही थी बाल मजदूरी, 26 बच्चे छुड़ाए गए

बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) को रायपुर में अमासिवनी क्षेत्र में बड़ी संख्या में बच्चों के काम करने की सूचना मिलने के बाद अभियान चलाया गया.

छत्तीसगढ़ः बिस्किट की फैक्ट्री में कराई जा रही थी बाल मजदूरी, 26 बच्चे छुड़ाए गए
बचाव कार्य के बाद बच्चों को राज्य सरकार द्वारा संचालित बाल गृह भेज दिया गया

रायपुर: जिला कार्यबल (डीटीएफ) ने लोकप्रिय बिस्किट ब्रांड पारले-जी की विनिर्माण इकाई से वहां मजदूरी कर रहे 26 बच्चों को बचाया गया है. जिला बाल संरक्षण अधिकारी नवनीत स्वर्णकार ने शनिवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा, "जिला कलेक्टर के निर्देश पर हमने एक अभियान चलाया और पारले-जी बिस्किट कारखाने से 26 बच्चों को बचाया." बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) को रायपुर में अमासिवनी क्षेत्र में बड़ी संख्या में बच्चों के काम करने की सूचना मिलने के बाद अभियान चलाया गया.

बचाए गए अधिकांश बच्चों की आयु 12 से 16 वर्ष के बीच है और वे झारखंड, ओडिशा और बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बच्चों द्वारा दिए गए बयानों के अनुसार, प्रति माह केवल 5,000 से 7,000 रुपये तक के वेतन में वे सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक काम किया करते थे.  

स्कूल चले हम,पढेगा इंडिया तभी तो बढेगा इंडिया अभियान की खुली पोल !

बीबीए के सीईओ समीर माथुर ने कहा, "पारले-जी जैसा ब्रांड हमारे देश में एक घरेलू नाम है और लाखों बच्चों के बीच इसकी पहचान है, उसे इस रूप में देखना बहुत निराशाजनक है." बचाव कार्य के बाद बच्चों को राज्य सरकार द्वारा संचालित बाल गृह भेज दिया गया और जेजे एक्ट की धारा 79 के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई.

(इनपुटः आईएएनएस)