घर पर ही रहकर करें Coronavirus से रिकवरी! बस इन पांच बातों का रखें ख्याल

कोरोना से रिकवरी के समय में अगर आप आराम करते हुए पेट के बल लेटेंगे तो इससे आपको काफी फायदा मिलेगा.

घर पर ही रहकर करें Coronavirus से रिकवरी! बस इन पांच बातों का रखें ख्याल
फाइल फोटो.

नई दिल्लीः कोरोना महामारी से देश में लाखों लोग संक्रमित हैं. बड़ी संख्या में लोग होम क्वारंटाइन हैं. जो लोग होम क्वारंटाइन में हैं और कोरोना से रिकवरी करने की कोशिश कर रहे हैं, उनके लिए हम यहां ऐसे टिप्स बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप घर पर ही रहकर इस महामारी से रिकवरी कर सकते हैं. 

पेट के बल लेटें
कोरोना से रिकवरी के समय में अगर आप आराम करते हुए पेट के बल लेटेंगे तो इससे आपको काफी फायदा मिलेगा. डॉक्टर्स के अनुसार, पेट के बल लेटने से हमारा श्वसन तंत्र (Respiratory System) बेहतर काम करता है. साथ ही पेट के बल लेटने से हमारे फेफेड़ों की तरफ ब्लड की सप्लाई बेहतर होती है. इससे हमारी बॉडी वायरस की वजह से फेफड़ों को हुए नुकसान से रिकवरी कर सकेगी. इसलिए जब तक कोरोना मरीज कंफर्टेबल रहे, उसे पेट के बल ही लेटना चाहिए. 

भरपूर मात्रा में लें विटामिन्स
अगर कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमण से या फिर किसी भी अन्य श्वसन संबंधी संक्रमण से जूझ रहा है तो उसके लिए विटामिन सी बेहद फायदेमंद होता है. इसलिए अपनी डाइट में ऐसी चीजें शामिल करें, जिनमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जैसे खट्टे फल- मौसमी, संतरा, नींबू आदि

इसके अलावा विटामिन डी भी बेहद अहम है. दरअसल रिसर्च में पता चला है कि बड़ी संख्या में वो लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिनमें विटामिन डी की कमी थी. इसलिए विटामिन डी का स्तर बॉडी में सामान्य बनाए रखें. इसके लिए आप एक गिलास दूध या फिर सुबह की गुनगुनी धूप में बैठ सकते हैं. साथ ही विटामिन डी सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं. 

भरपूर आराम करें
कोरोना महामारी से पीड़ित जिन लोगों में कोरोना के लक्षण ज्यादा खतरनाक नहीं हैं और वह घर पर ही क्वारंटाइन रहकर रिकवरी की कोशिश कर रहे हैं, उनके लिए आराम बेहद अहम है. डॉक्टर्स का भी कहना है कि कोरोना मरीज जितना आराम करे, उसके लिए उतना ही बेहतर है. हालांकि इसका मतलब ये नहीं है कि मरीज पूरा दिन बिस्तर पर ही लेटा रहे. वह कुछ देर टहले भी ताकि शरीर एक्टिव भी बना रहे. 

पौष्टिक आहार लें और बॉडी को हाइड्रेट रखें
कोरोना से रिकवरी के वक्त हमारी बॉडी को भरपूर मात्रा में पौष्टिक आहार (Nutrition) की जरूरत होती है. ऐसे में पौष्टिक आहार जरूर लें. बीमारी की हालत में कई बार सॉलिड खाना हम नहीं खाना चाहते हैं तो ऐसे में सूप वगैरह को डाइट में शामिल करें. साथ ही अपनी बॉडी को हाइड्रेट रखें और खूब पानी पीएं. बॉडी में पानी की कमी नहीं होनी चाहिए. 

सकारात्मक रहें
कोरोना से पीड़ित मरीज कई बार पैनिक हो जाते हैं लेकिन इस बात का खास ख्याल रखें कि कोरोना संक्रमण में खुद को पॉजिटिव बनाए रखें और खुद को जहां तक हो सके बिजी रखें. रिकवरी के दौरान टीवी पर अपने फेवरेट शो देखें या इंडोर गेम्स खेलें. इससे आपको तेजी से रिकवरी करने में मदद मिलेगी. सकारात्मक रहने से हमारी बॉडी की इम्यूनिटी बेहतर होती है और बॉडी संक्रमण के खिलाफ बेहतर तरीके से रेस्पॉन्स करती है. 

इनके अलावा गर्म पानी पीएं और गले को ठीक करने के लिए गुनगुने पानी से कुल्ला करें. साथ ही शराब का सेवन ना करें और स्मोकिंग भी पूरी तरह से बंद कर दें. 

ये लक्षण मिलें तो डॉक्टर को दिखाएं
कोरोना संक्रमण में शुरुआती 7-10 दिन का समय खतरनाक होता है. इस दौरान अगर आप को सांस फूलने की समस्या होती है, सीने में दर्द होता है या बेचैनी होती है, बहुत ज्यादा खांसी या फिर बुखार आता है, डिहाइड्रेशन होता है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें.  

(डिस्कलेमर- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित है. अगर कोई भी समस्या होती है तो डॉक्टर की सलाह पर ही कोई काम करें.)