मां की ममता से हारे यमराज! रोते हुए कहा- उठ जा मेरे बच्चे, मासूम की चलने लगीं सांसें

बच्चे के अंतिम संस्कार की तैयारियां हो रहीं थी, वहीं दूसरी तरफ बच्चे की मां और अन्य परिजन शोक मना रहे थे. इसी दौरान कुनाल की मां जानवी रोते हुए बच्चे के शव को बार-बार हिलाकर कह रही थी कि उठ जा मेरे बच्चे...

मां की ममता से हारे यमराज! रोते हुए कहा- उठ जा मेरे बच्चे, मासूम की चलने लगीं सांसें
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्लीः मां की ममता में इतनी ताकत होती है कि भगवान भी उसकी पुकार सुनते हैं! इस बात की ताकत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि हरियाणा में एक बच्चे को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था और उसके अंतिम संस्कार की तैयारियां चल रहीं थी. इस दौरान मां चीख-चीखकर अपने बेटे को उठ जाने के लिए पुकार रही थी. चमत्कार की बात है कि बच्चे की अचानक सांसें चलने लगीं. जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया और अब वह पूरी तरह से ठीक होकर अपने घर वापस आ गया है. 

क्या है मामला
घटना बीती 26 मई की है. दरअसल हरियाणा के बहादुरगढ़ के रहने वाले हितेश और जानवी के 6 साल के बेटे कुनाल की इलाज के दौरान दिल्ली के अस्पताल में टाइफाइड से मौत हो गई थी. जिसके बाद माता-पिता बच्चे का शव लेकर अपने घर लौटे. एक तरफ बच्चे के अंतिम संस्कार की तैयारियां हो रहीं थी, वहीं दूसरी तरफ बच्चे की मां और अन्य परिजन शोक मना रहे थे. इसी दौरान कुनाल की मां जानवी रोते हुए बच्चे के शव को बार-बार हिलाकर कह रही थी कि उठ जा मेरे बच्चे...

अब इसे मां की ममता की ताकत कहेंगे या भगवान का चमत्कार बच्चे की सांसें चलने लगीं. आनन-फानन में घर के अन्य लोगों को इसकी सूचना दी गई. जिस पर बच्चे के पिता हितेश ने तुरंत बच्चे को मुंह से सांस देना शुरू कर दिया. वहीं एक पड़ोसी युवक ने बच्चे की छाती को दबाना शुरू कर दिया. हितेश जब बच्चे को सांसें दे रहे थे तभी उसने उनका होंठ काट लिया. इसके बाद तुरंत ही बच्चे को रोहतक के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां करीब 20 दिन भर्ती रहने के बाद अब कुनाल पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपने घर लौट आया है. वहीं बच्चे के सही सलामत घर लौट आने से उसके मां-बाप और अन्य परिजन बेहद खुश हैं.