नोएडा में रहते हैं और मोबाइल में नहीं है ये App, तो हो जाएगी मुश्किल

गौतमबुद्ध नगर के डीसीपी लॉ एंड ऑर्डर आशुतोष द्विवेदी ने अपने आदेश में कहा है कि जो लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं, उनके फोन में Aarogya Setu App नहीं होने पर लॉकडाउन के उल्लंघन के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है, हालांकि पुलिस ने इसके लिए कोई सज़ा या जुर्माना तय नहीं किया है

नोएडा में रहते हैं और मोबाइल में नहीं है ये App, तो हो जाएगी मुश्किल

गौतमबुद्ध नगर: अगर आप नोएडा में रहते हैं और अब तक Aarogya Setu App आपके मोबाइल में डाउनलोड नहीं  है तो आप बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं. इस ऐप्लिकेशन का मोबाइल से नदारद होना आपको कानूनी पचड़े में फंसा सकता है. पुलिस ने Aarogya Setu App का मोबाइल में न होना दंडनीय अपराध माना है.

3 मई को जारी हो चुका है आदेश
डीसीपी लॉ एंड ऑर्डर आशुतोष द्विवेदी ने अपने आदेश में कहा है कि जो लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं, उनके फोन में Aarogya Setu App नहीं होने पर लॉकडाउन के उल्लंघन के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है, हालांकि पुलिस ने इसके लिए कोई सज़ा या जुर्माना तय नहीं किया है. इस छोटी सी भूल के लिए सज़ा न्यायालय की ओर से तय की जाएगी, जो महज चेतावनी भी हो सकती है या गंभीर सज़ा भी.

लॉकडाउन में शराब की दुकानें खुली रहेंगी या नहीं? गुरुवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट करेगा सुनवाई  

रेड ज़ोन में रखा गया है गौतमबुद्ध नगर
यूपी में गौतमबुद्ध नगर अभी भी रेड ज़ोन में रखा गया है. 17 मई तक  ज़िले में धारा 144 लगाई गई है और कंटेनमेंट ज़ोन में भी प्रशासन सख़्ती बरत रहा है.

क्या है Aarogya Setu App?
भारत सरकार ने इस ऐप्लिकेशन को कोरोना वायरस से जुड़े अपडेट लेने के लिए बनाया है. App में रजिस्ट्रेशन करने के बाद आप अपना टेस्ट कर सकते हैं और आपके आस-पास कोरोना संक्रमित व्यक्ति की जानकारी भी पा सकते हैं. फिलहाल ये App आपको ई-पास की सुविधा भी दिला सकता है.