सादगी से निकली विजयादशमी की शोभायात्रा, CM योगी ने दिखाया कोरोना पर 'विजय' का रास्ता

श्री रामलीला समिति आर्यनगर की ओर से रामलीला मैदान मानसरोवर में चल रही रामलीला में पहुंचे गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम, लक्ष्मण और माता सीता का राजतिलक किया.

सादगी से निकली विजयादशमी की शोभायात्रा, CM योगी ने दिखाया कोरोना पर 'विजय' का रास्ता

गोरखपुर: वैश्विक महामारी के बीच भी विजयादशमी पर गोरखनाथ मंदिर से निकलने वाली शोभायात्रा सादगी के साथ निकली. हालांकि नाथ सम्‍प्रदाय और गोरक्षपीठ की परंपरा के अनुसार निकलने वाले रथ पर सवार होकर गोरक्षपीठ के महंत मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ नहीं निकले.

वैश्विक महामारी के कारण वे फ्लीट के साथ कार से ही मानसरोवर मंदिर प‍हुंचे और यहां पर भगवान शिव के साथ श्रीराम-माता सीता की पूजा-अर्चना करने के बाद मानसरोवर रामलीला मैदान पहंचे और यहां पर भगवान श्रीराम का राजतिलक किया.  

सीएम योगी ने किया राजतिलक
श्री रामलीला समिति आर्यनगर की ओर से रामलीला मैदान मानसरोवर में चल रही रामलीला में पहुंचे गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम, लक्ष्मण और माता सीता का राजतिलक किया.
उन्‍होंने कहा कि इस अवसर पर वे सबको विजयदशमी का हम सबके जीवन में इसी प्रकार की हर्षोल्लास का माहौल निरंतर बनाए रखें. लेकिन वैश्विक महामारी के समय में हमें मर्यादा का भी ख्‍याल रखना है. कोविड के जो नियम हैं, वहीं इस समय हमारे लिए मर्यादा है.  
 
परंपरा के निर्वहन पर समिति को दिया धन्यवाद
सीएम ने कहा कि गोरक्षपीठ की परंपरा के अनुरूप वैश्विक महामारी में भी इस परंपरा का निर्वहन हुआ है. समिति को धन्यवाद देता हूं. हजारों वर्ष पहले मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के आदर्श आज भी हम सभी को प्रेरणा प्रदान करते हैं. हम अपने पर्व और त्योहार को ऐसे समय में मना रहे हैं, जब पूरा विश्व कोरोना महामारी की चपेट में है. 

मोदी जी के नेतृत्व में कोरोना के लड़ रहा देश
 वे हर व्यक्ति के लिए मर्यादा की एक लक्ष्मणरेखा तय कर देते हैं. कोरोना की जिस लड़ाई को मोदी जी के नेतृत्व में भारत लड़ रहा है, इसका लोहा दुनिया ने माना है. 
गरीबों और जरूरतमंदों को कोई परेशानी न होने पाए.

इसके लिए सरकार तत्पर रही.  80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराया. सरकार की अनेक योजनाओं का लाभ मिला. जिस अमेरिका की स्वास्थ्य सेवाओं के आगे हमारी क्या स्थिति होती. लेकिन, पीएम मोदी जी ने जिस तत्परता के साथ निर्णय लिए, इसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है.
 
कुछ लोगों को थी राम के नाम से चिढ़
उन्होंने कहा कुछ लोगों को राम के नाम से  चिढ़ होती है, तो वे अपने मन के हिसाब से इस पर अवैध कब्जा कर कोई और स्वरूप दे देते रहे हैं. अब कोई ऐसा नहीं कर पायेगा. रामलीला साल में एक ही बार नहीं होनी चाहिए. पर्व का उल्लास हमेशा बना रहना चाहिए. जन्माष्टमी और अन्य त्योहार पर भी भजन का आयोजन होना चाहिए. 

राम मंदिर आंदोलन में अपने गुरू की भूमिका को किया याद
सीएम ने कहा कि  मेरे दादा गुरु ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और उनके गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ ने अयोध्या में इसके लिए आंदोलन किया. उसमें गोरखपुर के लोग भी गए होंगे. आज उसी के परिणाम स्वरूप अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बन रहा है. यूपी और गोरखपुर विकास के पथ पर अग्रसर हो रहा है. 

साधु-संतों ने की शिरकत 
इस अवसर पर काशी से पधारे सतुआ बाबा, प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ, योगी शांति नाथ, महंत रविन्‍द्र दास, श्रीश्री रामलीला समिति आर्यनगर के अध्‍यक्ष रेवती रमण दास, महामंत्री पुष्‍पदंत जैन, प्रवक्‍ता विकास जालान, उपमंत्री राजीव रंजन अग्रवाल, मनीष अग्रवाल सर्राफ, कीर्ति रमन दास, जितेन्‍द्र नाथ अग्रवाल, विधायक विपिन सिंह, इं. पीके मल्‍ल, महापौर सीताराम जायसवाल, अंजू चौधरी, डा. धमेन्‍द्र सिंह, युधिष्ठिर सिंह, राजेश गुप्‍ता, राहुल श्रीवास्‍तव, महेश पोद्दार, दुर्गेश त्रिपाठी, मीरा श्रीवास्‍तव, जितेन्‍द्र सैनी समेत अनेक गणमान्‍य लोग उपस्थित रहे. 

WATCH LIVE TV