प्रयागराज: नगर निगम में नौकरी के नाम पर फर्जीवाड़े का भंडाफोड़, एक आरोपी गिरफ्तार

कई दिन बीतने के बाद पीड़ित युवक-युवतियों ने जब नौकरी मिलने के बारे में जानकारी मांगी तो, जालसाज टालमटोल करने लगे.

प्रयागराज: नगर निगम में नौकरी के नाम पर फर्जीवाड़े का भंडाफोड़, एक आरोपी गिरफ्तार
चौंकाने वाले खुलासे के बाद महापौर ने सभी पीड़ितों को बुलाकर सिविल लाइंस पुलिस को सूचना दी.

दिव्यांश शर्मा/प्रयागराज: प्रयागराज नगर निगम में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपयों की वसूली का मामले का खुलासा हुआ है. नगर निगम में सर्वेयर के पद पर नौकारी देने का झांसा देकर जालसाजों ने कई युवाओं से लाखों रुपए ऐंठ लिए. मामले का खुलासा होने पर एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गैंग के बाकी साथियों की तलाश में पुलिस की जांच जारी है.

व्हाट्सएप ग्रुप के झांसे में आए कईं युवक युवतियां
आरोप है कि जालसाजों ने सबसे पहले एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया और विज्ञापन की तर्ज पर युवक य़ुवतियों को जोड़कर नगर निगम में नौकरी का सपना दिखाया. इसके बाद नगर निगम प्रयागराज में सर्वेयर के पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपए की वसूली की गई. किसी को भी शक ना हो इसके लिए जालसाजों ने ट्रेनिंग देने के के नाम पर ग्रुप मैंबरों से कुछ रूपए लिए. फिर उनसे ज्वाइनिंग के लिए 1 लाख 20 हज़ार रूपए की डिमांड की गई. कई युवक युवतियां इनके बिछाए जाल में फंस गए और मांगी गई रकम दे दी. 

कैसे हुआ मामले का खुलासा ?
कई दिन बीतने के बाद पीड़ित युवक युवतियों ने जब नौकरी मिलने के बारे में जानकारी मांगी तो जालसाज टालमटोल करने लगे. पीड़ित युवकों ने जब दबाव बनाया तो उन्हे नगर निगम परिसर में अथॉरिटी लेटर देने के लिए लाया गया. महापौर अभिलाषा नन्दी के सामने जैसे ही मामला सामने आया, उन्होंने पहले विभाग के अधिकारियों से पूछताछ की. जिसके बाद अधिकारियों के भी होश उड़ गए. चौंकाने वाले खुलासे के बाद महापौर ने सभी पीड़ितों को बुलाकर सिविल लाइंस पुलिस को सूचना दी.