कानपुर शूटआउट केस: यूपी एसटीएफ ने ढूंढ निकाला विकास दुबे के 22 मददगारों का पूरा ब्योरा

बिकरू गांव शूटआउट के बाद इन मददगारों की भूमिका अभी तक सामने नहीं आई है. लेकिन इनके माध्यम से विकास के बारे में कई जानकारियां जुटाई जा रही हैं.

कानपुर शूटआउट केस: यूपी एसटीएफ ने ढूंढ निकाला विकास दुबे के 22 मददगारों का पूरा ब्योरा

लखनऊ: कानपुर के बिकरू गांव में हुए शूटआउट में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के 22 मददगारों का पूरा ब्योरा यूपी एसटीएफ ने ढूंढ़ निकाला है. एसटीएफ के सूत्रों के हवाले से यह खबर पता चली है. सूत्रों के मुताबिक विकास दुबे के इन मददगारों के मोबाइल की कॉल डिटेल्स भी एसटीएफ को मिली है.

कानपुर शूटआउट में घायल सिपाही ने बयां की 8 पुलिसवालों की शहादत की पूरी कहानी, यहां पढ़ें

बिकरू गांव शूटआउट के बाद इन मददगारों की भूमिका अभी तक सामने नहीं आई है. लेकिन इनके माध्यम से विकास के बारे में कई जानकारियां जुटाई जा रही हैं. इनमें से ही एक मददगार लखनऊ में खरीदी गई विकास दुबे की एक सम्पत्ति में गवाह भी है. इनमें दो मददगार अक्सर लखनऊ के कृष्णानगर स्थित विकास के घर में उससे और उसके भाई दीप प्रकाश से मिलने आते थे.

कानपुर शूटआउट केस की जांच के लिए SIT का गठन, 31 जुलाई तक शासन को सौंपनी होगी रिपोर्ट

विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश की पत्नी अंजलि इनमें से एक मददगार के साथ ही बिकरू गांव तक प्रधानी से जुड़े काम के दस्तावेज पहुंचवाती थीं. एसटीएफ इन विकास दुबे के इन मददगारों से एक दो दिन के अंदर पूछताछ कर सकती है. सूत्रों के मुताबिक एसटीएफ ने 12 मोबाइल फोन की कॉल डिटेल्स से भी कई जानकारियां हासिल की हैं.

WATCH LIVE TV