कौन हैं अंकित शर्मा जो दिल्ली हिंसा के शिकार हो गए?

बुधवार को अंकित का शव चांद बाग के एक गंदे नाले में पड़ा मिला था. इनकी हत्या के आरोप आम आदमी पार्टी (AAP) से पार्षद ताहिर हुसैन पर लगा है.

कौन हैं अंकित शर्मा जो दिल्ली हिंसा के शिकार हो गए?
अंकित शर्मा की फाइल फोटो

नई दिल्ली/मुजफ्फरनगर: नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा में इंटेलिजेंस ब्यूरो के कांस्टेबल अंकित शर्मा (Ankit Sharma) ने अपनी जान गवां दी है. अंकित वैसे तो अपने परिवार के साथ दिल्ली के खजूरी इलाके में रहते थे, लेकिन वो मूलरूप से मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना थाना क्षेत्र के ईटावा गांव के निवासी थे. उनकी मौत की खबर के बाद से ही उनके गांव में मातम पसरा हुआ है. 

आप नेता ताहिर हुसैन पर आरोप
अंकित शर्मा की हत्या का आरोप परिवार वालों ने आम आदमी पार्टी के नेता ताहिर हुसैन पर लगाया है. परिजनों का आरोप है कि अंकित पर तलवार और चाकू से हमला किया गया. उनके शव तो नाले में फेंक दिया गया. अंकित के परिजनों के मुताबिक उनका बेटा मंगलवार शाम को खजूरी में अपनी ड्यूटी पूरी कर घर वापस लौट रहा था, तभी खजूरी पुलिया पर कुछ अज्ञात दंगाइयों ने उन्हें घेर लिया. परिवार वालों के मुताबिक निगम पार्षद ताहिर हुसैन की बिल्डिंग से 15-20 लोग आए और अंकित से साथ मारपीट करने लगे इसके बाद ये लोग अंकित को बिल्डिंग के अंदर ले गए और वहां उसकी हत्या कर दी. परिवार वालों का ये भी आरोप है कि कुछ लोगों ने अंकित को बचाने की कोशिश की तो बिल्डिंग के अंदर से उन लोगों पर गोलियां चलाई गईं और पेट्रोल बम भी फेंके गए. मंगलवार से ही उनका परिवार अंकित की तलाश में जुटा हुआ था. बुधवार को जब इलाके की छानबीन की गई, तो अंकित का शव चांद बाग के एक गंदे नाले में पड़ा मिला.

आईबी जवान अंकित के पिता रविंदर शर्मा भी दिल्ली में आईबी में ही तैनात हैं. अंकित ने 2017 में आईबी की नौकरी ज्वॉइन की थी. अंकित परिवार के साथ दिल्ली में रहते थे. 

कौन है ताहिर हुसैन?
ताहिर दिल्ली की राजनीति का चर्चित चेहरा नहीं है. ताहिर हुसैन पूर्वी दिल्ली नगर निगम वार्ड संख्या 59 नेहरू विहार से निगम पार्षद है. 2017 में चुनाव आयोग को ताहिर हुसैन ने जो जानकारी दी है, उसके मुताबिक उनके घर का पता नेहरू विहार, करावल नगर है. पेशे से उसने अपने आप को बिजनसमैन बताया था और लगभग 18 करोड़ की संपत्ति चुनाव आयोग के सामने घोषित की थी. हालांकि उसने अपने ऊपर लगे आरोप से इनकार किया है.