close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रामलीला के मंच से CM योगी के सियासी बाण बोले- 'राम का नाम लेने से लोगों को लगता है हाईवोल्टेज करंट'

Yogi Adityanath: सीएम योगी ने कहा कि कई मुस्लिम देशों में भी रामलीला का आयोजन होता है, जिसमें रामलीला के किरदार भी मुस्लिम कलाकार निभाते हैं. सीएम योगी ने ये भी कहा कि भगवान राम के आदर्शों के आधार पर ही रामराज्य की परिकल्पना की गई है.

रामलीला के मंच से CM योगी के सियासी बाण बोले- 'राम का नाम लेने से लोगों को लगता है हाईवोल्टेज करंट'
सीएम योगी की फाइल फोटो.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) में शुक्रवार (04 अक्टूबर) को एशबाग में चल रही रामलीला (Ramlila) देखने पहुंचे. सीएम योगी ने महापुरुषोतम भगवान राम और सीता का किरदार निभा रहे कलाकारों को रोली का टीका लगाया और उनकी आरती उतारी. इस मौके पर सीएम ने रामायण पर शोध करने की वकालत भी की और बिना किसी का नाम लिए विपक्ष पर भी तंज कसा. सीएम के साथ डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा भी मौजूद रहे. 

सीएम योगी ने कहा कि कई मुस्लिम देशों में भी रामलीला का आयोजन होता है, जिसमें रामलीला के किरदार भी मुस्लिम कलाकार निभाते हैं. लेकिन हमारे देश में राम का नाम लें तो ऐसा महसूस होता है जैसे हाइवोल्टेज का करंट लग रहा हो. सीएम योगी ने ये भी कहा कि भगवान राम के आदर्शों के आधार पर ही रामराज्य की परिकल्पना की गई है.

लाइव टीवी देखें

उन्होंने कहा कि दुनिया के सबसे लोकप्रिय धारावाहिक के रूप में रामायण ने स्थान हासिल किया. भारत के हर एक सांस में राम बसे हैं. सीएम ने कहा कि थाईलैंड का राजा अपने आप को राम का वंशज कहने में गौरव महसूस करता है, दुनिया का बड़ा देश इंडोनेशिया में रामलीला का आयोजन होता है.

सीएम योगी ने बताया कि जब हमारी सरकार ने दीपोत्सव कार्यक्रम बनाया तब इंडोनेशिया की रामलीला आई थी. उन पात्रों से मैंने पूछा जो सब मुस्लिम थे कि राम से आपका क्या सम्बंध हैं. उन्होंने कहा कि इंडोनेशिया के पात्रों ने कहा इस्लाम हमारी पूजा पद्धति है और राम हमारे पूर्वज है पूजा पद्धति बदली जा सकती है लेकिन पूर्वज नहीं. 

सीएम ने कहा कि रामायण पर शोध होना चाहिए और इसे जीवंत बनाया जाना चाहिए. सीएम योगी ने कहा कि मेरा ये मानना है भारत का आमजन मर्यादा पुरुषोत्तम के साथ खुद को जोड़कर जबतक प्रेरणा प्राप्त कर रहा है तबतक भारत भारत बना रहेगा और मानव कल्याण का मार्ग इस भारत से होकर गुजरेगा.