अमेठी में लगे 'लापता सांसद से सवाल' वाले पोस्टर, स्मृति ईरानी ने कुछ यूं दिया करारा जवाब

पोस्टर्स शहर में जामो के अतरौली, शाहगढ़ ब्लॉक के बहोरखा प्राथमिक पाठशाला और आसपास के खम्बों पर चस्पा किए गए हैं.

अमेठी में लगे 'लापता सांसद से सवाल' वाले पोस्टर, स्मृति ईरानी ने कुछ यूं दिया करारा जवाब

अमेठी: कोरोना संकट के बीच अमेठी में एक बार फिर से पोस्टर वॉर शुरू हो गया है. एक वक्त था जब राहुल गांधी के लापता होने के पोस्टर लगते थे, तो वहीं अब BJP सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ 'लापता सांसद से सवाल' वाले पोस्टर लगे हैं. पूछा गया है कि क्या अब आप (स्मृति ईरानी) अमेठी में सिर्फ कंधा ही देने आयेंगी? वहीं स्मृति ईरानी ने भी अपने बचाव में पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है.

अमेटी में चिपकाए गए पोस्टर्स में लिखा है ''अमेठी से सांसद बनने के बाद (साल भर में 2 दिन) महज कुछ घंटों में अपनी उपस्थित दर्ज कराने वाली सांसद स्मृति इरानी जी आज कोरोना महामारी के दर्द से अमेठी की जनता भयभीत और त्रस्त है. हम यह नहीं कहते कि आप गायब हैं. हमने आपको ट्विटर के माध्यम से अंताक्षरी खेलते हुए देखा है. हमने आपके माध्यम से एकात व्यक्ति को लंच देते हुए देखा है. लेकिन अमेठी के सांसद होने के नाते से आज विपरीत समय में अमेठी की मासूम जनता अपनी आवश्यकताओं और परेशानियों के लिए आपको ढूंढ रही है, विगत कई महीनों की परेशानियों के बीच में यूं ही अमेठी की जनता को निराश्रित छोड़ देना यह दर्शाता है कि शायद अमेठी आप के लिए महज टूर हब है.''

ये पोस्टर शहर में जामो के अतरौली, शाहगढ़ ब्लॉक के बहोरखा प्राथमिक पाठशाला और आसपास के खम्बों पर चस्पा किए गए हैं. हालांकि, पोस्टर्स किसके द्वारा चिपाकए गए हैं, इसकी जानकारी नहीं दी गई है. लेकिन, पोस्टर की तस्वीर शेयर करते हुए कांग्रेस MLC दीपक सिंह ने ट्वीट कर स्मृति ईरानी पर निशाना साधा है.

दीपक सिंह ने लिखा, ''स्मृति ईरानी MP बनने के बाद 22 जून 2019 को पहली बार, 6 जुलाई को 4 घंटे के लिए, 28 अगस्त को 2 घंटे और बीच में एक बार 4 घंटे के लिए ही अमेठी आईं. बहुत लंबा समय हो गया, आपके कुछ कार्यकर्ता और हम सब अमेठीवासी भी आपको बहुत याद कर रहे हैं. घंटों में नहीं कुछ दिन तो बीताइए अमेठी में.''

MLC Deepak singh tweet asking smriti irani question

उधर, स्मृति ईरानी ने खुद मोर्चा संभालते हुए ट्वीट किया, ''कलेक्टर अमेठी, सुल्तानपुर, रायबरेली से सतत संपर्क एवं समन्वय के माध्यम से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ अमेठी के जन जन तक पहुंचे ये प्रयास किया मैंने. बताएं सोनिया जी ने स्वयं कितनी बार प्रयास किया अपने क्षेत्र के लिए ?''