UP के एक और जिले का नाम बदलने की तैयारी? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास पहुंची चिट्ठी
X

UP के एक और जिले का नाम बदलने की तैयारी? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास पहुंची चिट्ठी

भाजपा विधायक प्रकाश द्विवेदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर अपने जिले का नाम महर्षि बामदेव के नाम पर रखने की अपील की है.

UP के एक और जिले का नाम बदलने की तैयारी? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास पहुंची चिट्ठी

बांदा: उत्तर प्रदेश में एक और जिले का नाम बदलने को लेकर प्रयास शुरू हो गए हैं. भाजपा विधायक प्रकाश द्विवेदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर बांदा जिले का नाम बदलने की मांग की है. अपनी चिट्ठी में उन्होंने बांदा का नाम महर्षि बामदेव रखे जाने की अपील मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की है. प्रकाश द्विवेदी बांदा सदर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक हैं.

उन्होंने सीएम योगी को लिखी चिट्ठी के साथ महर्षि बामदेव नगर एक्शन फोरम के ज्ञापन को भी अटैच किया है. उन्होंने लिखा है कि बीते वर्षों में कई शहरों के नाम बदले गए हैं, अब बांदा जिले का नाम भी बदलकर महर्षि बामदेव के नाम पर रखना चाहिए. बांदा का नाम बदलकर महर्षि बामदेव नगर रखे जाने की मुहिम त्रिवेणी फाउंडेशन ट्रस्ट के महर्षि वाममदेव नगर एक्शन फोरम द्वारा चलाई जा रही है.

UP में प्रियंका को चुनौती नहीं मानते मौर्या, बोले- कांग्रेस अपनी 7 सीटें बचा ले तो उपलब्धि होगी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बांदा का नाम बदले जाने को लेकर हाल ही में महर्षि बामदेव नगर एक्शन फोरम के प्रतिनिधिमंडल के साथ चंदू बेदी ने सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी के साथ मुलाकात की थी. विधायक प्रकाश द्विवेदी ने सीएम को लिखी चिट्ठी में कहा है कि रामायण काल से ही बांदा गौतम ऋषि के बेटे बामदेव की तपोस्थली रहा है. महर्षि बामदेव का नाम सप्तऋषियों में लिया जाता है. भ्रम की वजह से बाद में शहर का नाम बांदा रख दिया गया था. 

BJP विधायक के बिगड़े बोल: ओपी राजभर भैंसा है, अखिलेश औरंगजेबी परंपरा के पोषक

भाजपा विधायक के मुताबिक बांदा में केन नदी के किनारे महर्षि बामदेव का प्राचीन मंदिर भी है. ऐसा माना जाता है कि त्रेतायुग में भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण के साथ महर्षि बामदेव से मिलने यहां आए थे. विधायक ने कहा कि कोई भी इस बात का अंदाजा नहीं लगा सकता है कि बांदा का इतिहास क्या है. उन्होंने सीएम योगी से कहा कि जिले का नाम बदलकर इस क्षेत्र को चित्रकूट धाम की तरह रामायण सर्किट योजना से जोड़ा जाए, जिससे इस तीर्थ क्षेत्र का विकास हो सके.

WATCH LIVE TV

Trending news