2019 चुनाव की जंग: योगी सरकार ने बजट में हर वर्ग को साधने की भरपूर कोशिश

योगी सरकार ने अपने बजट में मदरसों के आधुनिकीकरण और मुस्लिम बच्चों के लिए वजीफे का भी ऐलान किया. 

2019 चुनाव की जंग: योगी सरकार ने बजट में हर वर्ग को साधने की भरपूर कोशिश

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव की जंग बड़ी है और यूपी अहम कड़ी है. ऐसे में यूपी बजट के चुनावी होने का अंदाजा पहले से ही था. योगी सरकार के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने करीब 21 हजार 212 करोड़ की नई योजनाओँ का ऐलान किया और धार्मिक एजेंडे के साथ हर वर्ग को साधने की भरपूर कोशिश की. 

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का दावा है कि यह बजट लोकलुभावन नहीं बल्कि लोककल्याणकारी है. प्रदेश के हित में जो आवश्यक है उस प्रकार के बजट का प्रावधान किया गया है. यह 'सबका साथ, सबका विकास' के मूलमंत्र को साकार करने वाला है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनो को साकार करने वाला बजट है. योगी सरकार ने अपने तीसरे बजट में सभी वर्गों का खास ख्याल रखा है. पिछले बजट के मुकाबले 12 प्रतिशत अधिक के इस 4.79 लाख करोड़ के बजट में यूपी सरकार ने किसानों, युवाओं, महिलाओं के साथ ही हर सेक्टर को साधने की पूरी कोशिश की है.

योगी सरकार के इस बजट को भगवा बजट भी कहा जा रहा है क्योंकि योगी ने अयोध्या, मथुरा, नैमिषारण्य आदि हिंदू तीर्थस्थलों के लिए विकास के लिए बजट में खुलकर पैसा दिया है. हालांकि सरकार ने अपने बजट में मदरसों के आधुनिकीकरण और मुस्लिम बच्चों केलिए वजीफे का ऐलान भी किया. 2019 लोकसभा चुनाव से ठीक पहले इस अहम बजट में योगी सरकार ने धार्मिक अजेंडे के साथ ही महिलाओं, युवाओं और किसानों को विशेष तरजीह दी. गांवों में गोवंश के रख-रखाव पर 247 करोड़ और शहरों में कान्हा गोशाला के लिए 200 करोड़ जारी किया गया, वहीं 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने पर जोर दिया गया. 

बजट के बाद मीडिया से मुखातिब सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा, समाज कल्याण विभाग समेत विभिन्न विभागों के बजट में कई गुना वृद्धि हुई है. यह बजट पिछले बजट से 11.98 प्रतिशत ज्यादा है. योगी ने कहा कि यह बजट नौजवान, किसान, महिला सबका ध्यान रखने वाला है. वित्त विभाग को एक विकास मुखी बजट पेश करने के लिए बधाई देता हूं.

योगी ने कहा कि यह उत्तर प्रदेश में आज तक का सबसे बड़ा बजट है. ये बजट 11.98% पिछली बार से बढ़ा है. यह बजट प्रदेश के प्रत्येक तबके को ध्यान में रखकर दिया गया है. पहले सिर्फ पांच जिलों में बिजली दी जाती थी पर हमने सभी 75 जिलों में समान रूप से बिजली पहुंचे, इसके लिए काम किया है. इस बजट में बिजली विभाग के लिए 20.21% बजट को बढ़ाया है. सरकार का प्रयास प्रत्यके घर को बिजली से रोशन करना है.

योगी ने कहा कि सामयिक विवाह योजना पर भी हमने बजट दिया है. पेंशन योजना की राशि को हमने 400 से 500 किया है. विधवा पेंशन के लिए हमने उम्र की सीमा हटा दी है. हम प्रदेश के अंदर तीन नये विश्वविद्यालय बनाने जा रहे हैं. इसमें से लखनऊ में अटल बिहारी वाजपेयी चिकित्सा विवि तथा सहारनपुर जिले में एक विश्वविद्यालय और एक आयुष विवि की स्थापना की जा रही है. जिले बलरामपुर में सेटेलाइट सेंटर के लिए भी हमने बजट में व्यवस्था की है. पीएसी की तीन नई महिला बटालियन के लिए भी हमने व्यवस्था की है. कानपुर और आगरा जिलों में मेट्रो परियोजना के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है. कुशीनगर और जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट व अयोध्या में नया एयरपोर्ट बनाने के लिए भी बजट दिया गया है.

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि रजिस्टर्ड श्रमिकों के बच्चों के लिए शिक्षा के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है. इसमें हर मंडल में ऐसे बच्चों के लिय आवासीय विद्यालय बनाये जायेंगे. मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत काम के लिए भी बजट में व्यवस्था की गई है. कन्या सुमंगला योजना नाम से योजना की हमने शुरुआत की है. नौजवानों का भी ध्यान बजट में दिया गया है. माटी कला योजना का भी ध्यान बजट में रखा गया है. हमने व्यापारी दुर्घटना बीमा की राशि 5 लाख से 10 लाख रुपये की है. उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि हम चाहते हैं कि उप्र के मदरसों का भी आधुनीकीकरण हो, इसलिए मदरसों के लिये भी बजट की व्यवस्था की गई है. इसी तरह पुलिस के आधुनिकीकरण व अवस्थापना के लिए भी व्यवस्था की गई.