महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, “हम इतना जोर का थप्पड़ मारेंगे, आदमी अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो पाएगा’’

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इतवार को भाजपा विधायक पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए यह बात कही. विधायक ने पार्टी के मुख्यालय शिवसेना भवन को ध्वस्त करने को लेकर एक विवादित बयान दिया था. 

महाराष्ट्र के सीएम ने कहा, “हम इतना जोर का थप्पड़ मारेंगे, आदमी अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो पाएगा’’
उद्धव ठाकरे

मुंबईः महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इतवार को भाजपा पर परोक्ष हमला करते हुए कहा कि धमकाने वाली जुबान बर्दाश्त नहीं की जाएगी और इसे बोलने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. उन्होंने भाजपा विधायक प्रसाद लाड की एक मुबैयना तंकीद के मद्देनजर यह बयान दिया है जिसमें लाड ने कहा था कि अगर जरूरी हुआ तो मध्य मुंबई में ठाकरे की रहनुमाई वाली पार्टी के मुख्यालय शिवसेना भवन को ध्वस्त कर दिया जाएगा. हालांकि, बाद में उन्होंने अपनी इस तंकीद को वापस ले लिया और माफी मांगते हुए कहा कि मीडिया ने उनकी बात का गलत मतलब निकाल लिया था.

"थप्पड़ से डर नहीं लगता" 
यहां बीडीडी चॉल पुनर्विकास प्रोजेक्ट के उद्घाटन प्रोग्राम को खिताब करते हुए ठाकरे ने अपनी तीन-पार्टियों वाली महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार को ’ट्रिपल सीट’ सरकार बताया. सरकार में शिवसेना के अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस शामिल हैं. हिंदी फिल्म ’’दबंग’’ के एक डायलाॅग को याद करते हुए कि ’’थप्पड़ से डर नहीं लगता.’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ’’किसी को भी हमें थप्पड़ मारने की भाषा नहीं बोलनी चाहिए क्योंकि हम इतना जोर का थप्पड़ पलट कर मारेंगे कि दूसरा व्यक्ति अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो पाएगा.’’

चॉल मराठी संस्कृति और विरासत का हिस्सा 
मुख्यमंत्री ने चॉल पुनर्विकास परियोजना के लाभार्थियों से प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद लालच में नहीं पड़ने को कहा. ठाकरे ने कहा कि पुनर्विकास की तामीर में मराठी संस्कृति की किसी भी कीमत पर हिफाजत की जानी चाहिए क्योंकि चॉलों की एक ऐतिहासिक विरासत है, जहां क्रांतिकारियों ने अपना जीवन दिया है और ये संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन का गवाह भी हैं. प्रोग्राम में मौजूद राकांपा के सरबराह शरद पवार ने कहा कि बीडीडी चॉल की विरासत की हिफाजत की जानी चाहिए और मराठी भाषी लोगों को पुनर्विकसित घरों में ही रहना चाहिए.

Zee Salaam Live Tv