बेगूसराय घटना पर एडीजी मुख्यालय का बड़ा बयान, कहा- 'यह मॉब लिंचिंग नहीं'

एडीजी मुख्यालय एस के सिंघल ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि बेगूसराय की घटना मॉब लिचिंग नहीं है.

बेगूसराय घटना पर एडीजी मुख्यालय का बड़ा बयान, कहा- 'यह मॉब लिंचिंग नहीं'
एडीजी मुख्यालय ने कहा है कि मॉब लिचिंग और सेल्फ डिफेंस के बीच के अंतर को समझने की जरूरत है.

बेगूसराय: बिहार के बेगूसराय में शुक्रवार को मॉब लिंचिंग की नई वारदात सामने आई थी. जहां तीन अपराधियों की ग्रामीणों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी. जिसमें एक अपराधी की मौत मौके पर हो गई. जबकि दो की मौत अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई.

इस मामले में अब एडीजी मुख्यालय एस के सिंघल ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि बेगूसराय की घटना मॉब लिचिंग नहीं है. लोगों ने सेल्फ डिफेंस में ये कदम उठाया है. साथ ही उन्होंने कहा है कि मारे गए लोगों का लंबा इतिहास रहा है.

मॉब लिंचिंग

अपराधी रिवाल्वर के साथ लड़की का अपहरण करने आए थे. सेल्फ डिफेंस में लोगों ने यह फैसला लिया है. उन्होंने कहा है कि मॉब लिचिंग और सेल्फ डिफेंस के बीच के अंतर को समझने की जरूरत है. 

आपको बता दें कि बेगूसराय जेले के छौड़ाही थाना क्षेत्र में नारायणपीपर  गांव में ग्रामीणों ने हथियार लेकर पहुंचे तीन अपराधियों की जमकर पिटाई की. बताया जाता है कि अपराधी किसी छात्रा का अगवा करने पहुंचे थे. पिटाई के दौरान मौके पर ही एक की मौत हो गई. वहीं, दो को इलाज के ले अस्पताल ले जाया गया. लेकिन उनकी मौत हो गई.

बेगूसराय के पुलिस अधीक्षक आदित्य कुमार ने इसी मामले में शनिवार को बताया कि थाना प्रभारी सिंटू झा की लापरवाही सामने आई है, इस कारण से उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि पूरे मामले की छानबीन की जा रही है.