close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : बेगूसराय में शराब के साथ पांच पुलिसकर्मी गिरफ्तार, बैरक में रखी थी बोतलें

एसपी अवकाश कुमार को सूचना मिली थी कि मुफस्सिल थाना के पुलिस बैरक में पुलिस जवान पीने के लिए शराब छुपा कर रखे हैं. 

बिहार : बेगूसराय में शराब के साथ पांच पुलिसकर्मी गिरफ्तार, बैरक में रखी थी बोतलें
बेगूसराय में शराब के साथ पुलिसकर्मी गिरफ्तार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बेगूसराय : बिहार में जारी पूर्ण शराबबंदी कानून लागू है. अभी तक तस्करों की गिरफ्तारी की बात तो आपने सुनी होगी, लेकिन बेगूसराय में पुलिस बैरक में ही जिला के एसपी ने छापेमारी की है. एसपी ने बैरक से पांच कार्टन शराब के साथ पांच पुलिस जवान को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार जवानों में दो सैप और तीन होमगार्ड के जवान शामिल हैं. 

एसपी अवकाश कुमार को सूचना मिली थी कि मुफस्सिल थाना के पुलिस बैरक में पुलिस जवान पीने के लिए शराब छुपा कर रखे हैं. सूचना के आधार पर एसपी ने पुलिस बैरक में छापेमारी की. छापेमारी में तीन कार्टन शराब बरामद हुआ. इसके अलावा मुफस्सिल थाना पुलिस ने बाइक पर सवार दो सिपाही को दो कार्टन शराब लाते हुए हनुमानगढ़ी से गिरफ्तार कर लिया.

बताया जाता है कि चार दिन पूर्व मुफस्सिल थाना पुलिस ने हनुमानगढ़ी में एक ट्रक शराब बरामद किया था. गिरफ्तार सिपाहियों के द्वारा कुछ शराब को वहीं छुपा दिया गया था और कुछ को बैरक में रख दिया गया था. शराब बैरक लाने के दौरान सिपाही को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद बैरक में भी छापेमारी की गई.

गिरफ्तार सिपाहियों में खगड़िया जिला का सैप जवान रविंद्र कुमार, आरा जिला का सैप जवान राजेश सिंह, होमगार्ड जवान कैथमा निवासी सुरेंद्र कुमार, चेरिया बरियारपुर इलाके के प्रमोद कुमार और धबौली के दीपक कुमार सिंह शामिल हैं.

गिरफ्तार सभी जवान मुफ्फसिल थाना में ही कार्यरत थे. इसके अलावा एसपी ने मालखाने की भी जांच की, जहां से चार दिन पूर्व जब्त शराब में से एक कार्टन से अधिक शराब मिला है. इसको लेकर जांच अधिकारी से स्पष्टीकरण पूछा गया है.

एसपी ने बताया कि जांच के दौरान शराब पीने के लिए ही रखने की बात सामने आयी है. शराब बेचने का कोई सबूत फिलहाल नहीं नहीं मिला है. गिरफ्तार जवान छापेमारी स्थल से ही शराब को गायब कर बैरक में रखे थे. गिरफ्तार सिपाही को मेडिकल जांच के बाद जेल भेजा जाएगा.