close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना से जमियत-उल-मुजाहिद्दीन के दो आतंकवादी गिरफ्तार, ATS कर रही है पूछताछ

एटीएस की पूछताछ में पता चला है कि ये दोनों जमियत-उल-मुजाहिद्दीन और आईएसबीडी के सक्रिय सदस्य हैं.

पटना से जमियत-उल-मुजाहिद्दीन के दो आतंकवादी गिरफ्तार, ATS कर रही है पूछताछ
पटना से दो आतंकवादी गिरफ्तार.

पटना : बिहार की राजधानी पटना और बोधगया को निशाना बना रहे दो बांग्लादेशी आतंकी को एटीएस ने सोमवार को गिरफ्तार किया है. दोनों बांग्लादेशी आतंकवादी को पटना जंक्शन के पास से गिरफ्तार किया गया है. दोनों के पास से जो दस्तावेज मिले हैं. उससे यह साफ हो गया कि ये दोनों बेहद ही खतरनाक आतंकवादी हैं और इनके निशाने पर पटना और बोधगया था.

एटीएस की पूछताछ में पता चला है कि ये दोनों जमियत-उल-मुजाहिद्दीन और आईएसबीडी के सक्रिय सदस्य हैं. भारत में विभिन्न जगहों पर घूम-घूम कर मुस्लिम युवकों को अपने आतंकी संगठन से जोड़ना और धार्मिक स्थलों पर आतंकी घटना को अंजाम देना का इनका मकसद था. पुलिस दोनों से पूछताछ कर रही है. पुलिस का दावा है कि दोनों के तार आतंकी संगठन से जुड़े हुए हैं.

उन्होंने कहा, "पकड़े गए दोनों आतंकी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश के सक्रिय सदस्य हैं." दोनों गिरफ्तार आतंकियों की पहचान खैरूल मंडल और अबू सुल्तान मलिक के रूप में की है. दोनों बांग्लादेश के खुलना परगना के झनौदा जिले के महेशपुर थाना क्षेत्र के चापातल्ला गांव के रहनेवाले हैं. पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि इस संगठन के कई सदस्यों को बांग्लादेश की पुलिस ने आतंकी घटनाओं में संलिप्त होने के आरोप में गिरफ्तार किया है. 

पुलिस के मुताबिक, ये दोनों बिना किसी पासपोर्ट, वीजा या वैध दस्तावेज के अवैध रूप से बांग्लादेश सीमा पारकर भारत में प्रवेश कर गए हैं. दोनों अपनी पहचान छिपाने के लिए फर्जी भारतीय मतदातापत्र बनवाकर उसका इस्तेमाल कर रहे थे. ये दोनों देश के विभिन्न शहरों में अपने आतंकी संगठन में जुड़ने के लिए युवकों की तलाश कर रहे थे और बौद्ध धार्मिक स्थलों पर आतंकी घटना को अंजाम देने के लिए रेकी कर रहे थे. 

पुलिस के अधिकारी का दावा है कि दोनों युवक पिछले 11 दिनों से गया शहर में रह रहे थे. इन दोनों का सीरिया जाकर आतंकी संगठन आईएसआईएस के साथ मिलकर जेहाद में शामिल होने की योजना थी. 

गिरफ्तार युवकों के पास से पुलवामा आतंकी घटना के बाद जम्मू-कश्मीर में अर्धसैनिक बलों की प्रतिनियुक्ति से संबंधी आदेशों की छायाप्रति, आईएसआईएस और अन्य आतंकी संगठनों के पोस्टर और पम्पलेट की छायाप्रति, तीन मोबाइल फोन, एक मेमोरी कार्ड, दो फर्जी भारतीय मतदाता पहचानपत्र व एक फर्जी पैनकार्ड के साथ ही नई दिल्ली से हावड़ा और गया से पटना तक का रेल टिकट व बस टिकट बरामद किए गए हैं.

(एजेंसी इनपुट के साथ)