close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस ने NDA की संकल्प रैली को बताया फ्लॉप, सीएम नीतीश कुमार पर भी कसा तंज

मदन मोहन झा के मुताबिक, बीजेपी को नीतीश कुमार ने 'बड़का झूठा पार्टी' कहा था, लेकिन आज वो उसी पार्टी के साथ खड़े हैं. 

कांग्रेस ने NDA की संकल्प रैली को बताया फ्लॉप, सीएम नीतीश कुमार पर भी कसा तंज
पटना में बिहार कांग्रेस का प्रेस कॉन्फ्रेंस.

पटना : बिहार की राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रविवार को आयोजित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की संकल्प रैली को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान सहित दूसरे दिग्गजों ने संबोधित किया. अब इस रैली को लेकर कांग्रेस ने निशाना साधा है. पार्टी मु्ख्यालय में मीडिया से बात करते हुए बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने संकल्प रैली को असफल करार दिया है.

मदन मोहन झा के मुताबिक, बिहार के लोगों को उम्मीद थी की जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) नीतीश कुमार के डीएनए को लेकर उठाए गए सवाल की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग करेगी. क्योंकि कुछ साल पहले प्रधानमंत्री मोदी ने नीतीश कुमार के डीएनए पर सवाल खड़ा किया था. लेकिन जेडीयू के नेता खामोश रहे.

मदन मोहन झा के मुताबिक, बीजेपी को नीतीश कुमार ने 'बड़का झूठा पार्टी' कहा था, लेकिन आज वो उसी पार्टी के साथ खड़े हैं. रैली पर सवाल दागते हुए उन्होंने कहा कि पिछले एक महीने से बीजेपी, जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता लगातार कैंपेन कर रहे थे, लेकिन गांधी मैदान तो पूरी तरह खाली रह गया.

बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष ने कहा प्रधानमंत्री मोदी ने देश के साथ झूठ बोला है, जनता को ठगा है, लिहाजा अब बिहार उनकी बात पर भरोसा नहीं करेगा. वहीं, दूसरी ओर बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और भागलपुर के कहलगांव से विधायक सदानंद सिंह ने भी रैली को फ्लॉप बताया. सदानंद सिंह ने कहा जिस रैली को सफल बनाने के लिए धन का भरपूर इस्तेमाल हुआ, उसका नतीजा यह था कि रैली को सुनने के लिए लोग नहीं पहुंचे.

उन्होंने कहा बसें और ट्रेनें बुक कराई गईं, बावजूद प्रधानमंत्री को सुनने के लिए कोई नहीं पहुंचा. बीजेपी और एनडीए का किला दरकने लगा है. सदानंद सिंह के मुताबिक, बीजेपी ने इस बिहार से कुछ वायदे किए थे और सत्ता में पांच साल रहने के बाद जब वो पूरे नहीं हुए तो जनता ने इस रैली से दूरी बना ली.