चैती छठ के तीन दिन व्रतियों ने दिया अर्घ्य, Corona के कारण घाटों पर रही भीड़ कम

लोक आस्था का महापर्व चैती छठ के तीसरे दिन के अवसर पर व्रतियों ने रविवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को अ‌र्घ्य दिया. कोरोना की वजह से इस बार गंगा घाट के किनारे भी भीड़ नहीं है.

चैती छठ के तीन दिन व्रतियों ने दिया अर्घ्य, Corona के कारण घाटों पर रही भीड़ कम
चैती छठ के तीन दिन व्रतियों ने दिया अर्घ्य (प्रतीकात्मक फोटो)

Patna: लोक आस्था का महापर्व चैती छठ के तीसरे दिन के अवसर पर व्रतियों ने रविवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को अ‌र्घ्य दिया. कोरोना की वजह से इस बार गंगा घाट के किनारे भी भीड़ नहीं है. लोग काफी कम संख्या में घाट पर पहुंच रहें हैं. इसके अलावा जो लोग गंगा घाट पर पूजा करने आये थे, उसमे कई लोग कोरोना गाइडलाइन का पालन भी नहीं कर रहे थे. 

बेहद खास है ये पर्व

लोक और आस्था के इस पर्व को लोग बहुत श्रद्धा के साथ मानते हैं. इस दौरान लगो अपने सुखमय जीवन के लिए मन्नतें भी मांगते हैं. ऐसे मान्यता है कि इस दौरान जो भी मन्नत मांगी जाती है, वो पूरी होती है. ऐसे में लोग अपनी मन्नतों को पूरा करने के लिए ये व्रत पूरा करते हैं. 

 ये भी पढ़ें: जब इंदिरा ने चंद्रशेखर से पूछा- आप समाजवादी होकर कांग्रेस में शामिल क्यों होना चाहते हैं

 

बेहद कठिन होता है ये व्रत

चैती छठ कार्तिक मास की छठ से कठिन माना जाता है. गर्मी की तपिश के बाद भी व्रती निर्जला उपवास रखकर इस व्रत को पूरा करती हैं. वो पूरी निष्ठा के साथ इस चार दिवसीय अनुष्ठान को करती हैं. पारिवारिक सुख समृद्धि और मनोवांछित फल प्राप्त करने के लिए इस व्रत को  किया जाता है. वहीं पूजा समाप्त होने के बाद लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं.