Gold in Bihar: सोना ही नहीं कई मूल्यवान खनिजों का भंडार है बिहार, जमीन में दबे हैं गोमेद और रूबी
X

Gold in Bihar: सोना ही नहीं कई मूल्यवान खनिजों का भंडार है बिहार, जमीन में दबे हैं गोमेद और रूबी

Gold in Bihar: ज्योलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया पटना के प्रोजेक्ट मैनेजर एस के दत्ता ने वर्ष 2015 में इलाके का सर्वे कर बताया था कि झाझा प्रखंड के बामनथानू में जरकोनियम नामक तत्व की बाहुलता है. इस इलाके में जरकोनियम की चार हजार पीपीएम (पार्ट पर मिलियन) पाई गई है.

Gold in Bihar: सोना ही नहीं कई मूल्यवान खनिजों का भंडार है बिहार, जमीन में दबे हैं गोमेद और रूबी

पटनाः Gold in Bihar: सोने के भंडार को लेकर जमुई जिला के सोनो प्रखंड का एक बेचिरागी गांव करमटिया फिर सुर्खियों में आ गया है. केंद्र सरकार ने देश में सर्वाधिक सोना होने की पुष्टि की है. केंद्रीय खान मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सोनो के करमटिया में 223 मिलियन टन स्वर्ण धातु होने की बात कही. इसके पहले वर्ष 2010-11 में भी ज्योलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम द्वारा सोना मिलने की पुष्टि की गई थी. 

1982 में भी मिला था सोना
तकरीबन 30 वर्षों बाद फिर एक बार सरकार सोनो के सोना पर झूम उठी है. दरअसल बात वर्ष 1982 की है. जब करमटिया के मैदान में पशु चराने वाले लोगों को मिट्‌टी में स्वर्ण कण मिला था. इसके बाद भू वैज्ञानिकों ने स्थल का सर्वे कर भू छेदन का कार्य भी किया था.

तत्कालीन केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने करमटिया के स्वर्ण भंडार को लेकर कई घोषणाएं की थी. हवाई सर्वेक्षण के साथ भू छेदन कर स्वर्ण भंडार का पता लगाने के लिए पत्थरों के टूकड़ों को संग्रह किया गया था. लेकिन इन बीस वर्षों के बीच सरकार को इस स्वर्ण भंडार की फिक्र नहीं थी. 

कई और खनिज का भरपूर भंडार
जमुई जिले में सोने के अलावा कई ऐसी खनिज संपदा का पर्याप्त भंडार है जो बिहार-झारखंड के बंटवारे के दर्द को कम कर सकता है. सोनो के करमटिया में सोनो, सिकंदरा के मंजोष में लौह अयस्क के अलावा सोनो और खैरा के जंगली इलाके में गोमेद व अन्य कीमती पत्थर का पर्याप्त भंडार है.

इसके अलावा चकाई में रूबी मायका (अभ्रक) का भी भंडार मिला है. 

जरकोनियम भी बड़ी मात्रा में मौजूद
ज्योलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया पटना के प्रोजेक्ट मैनेजर एस के दत्ता ने वर्ष 2015 में इलाके का सर्वे कर बताया था कि झाझा प्रखंड के बामनथानू में जरकोनियम नामक तत्व की बाहुलता है. इस इलाके में जरकोनियम की चार हजार पीपीएम (पार्ट पर मिलियन) पाई गई है.

जिसकी रिपोर्ट भारत सरकार को भेजी गई थी. जरकोनियम की गणना विरल तत्वों में की जाती है. 

सदन में मांगी थी जानकारी
बिहार में भारत का सबसे बड़ा स्‍वर्ण भंडार मिला है. बिहार भाजपा के अध्‍यक्ष और लोकसभा सदस्‍य संजय जायसवाल ने सदन में सरकार से जानकारी मांगी थी, जिसके बाद सरकार की तरफ से जानकारी दी गई. बताया जा रहा है कि सोने का ये भंडार इतना है कि जितना देश में कहीं नहीं है. 

संजय जायसवाल ने सदन में पूछा था कि देश में सर्वाधिक स्‍वर्ण भंडार क्‍या बिहार में है? उन्‍होंने पश्चिम चंपारण समेत अन्‍य जिलों में स्‍वर्ण भंडार का सर्वे कराने की बाबत भी सरकार से जानकारी मांगी थी. इसके जवाब में खान, कोयला एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया कि भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण ने पश्चिम चंपारण और गया के कुछ हिस्‍सों में स्‍वर्ण भंडार को लेकर सर्वे किया है और यह पिछले पांच साल के दौरान संयुक्‍त राष्‍ट्र फ्रेमवर्क वर्गीकरण की निगरानी के तहत हुआ है. उन्होंने बताया कि इन इलाकों में स्वर्ण की औसत सांद्रता कम है.

यह भी पढ़िएः 'सबका साथ-सबका विकास' के लिए जातिगत जनगणना जरूरी- RJD

Trending news