झारखंड चुनाव: BJP-AJSU के रार से गठबंधन को हुआ लाभ

आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं कि बीजेपी और आजसू का अगर साथ नहीं छूटता तो कम से कम 19 सीटों पर नुकसान से बीजेपी बच जाती. 

झारखंड चुनाव: BJP-AJSU के रार से गठबंधन को हुआ लाभ
बीजेपी विधानसभा चुनाव आजसू से अलग होकर लड़ी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची: झारखंड में भारतीय जनता पार्टी (BJP) और ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन (आजसू) का अलगाव कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के लिए काफी फायदे का साबित हुआ है. आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं कि बीजेपी और आजसू का अगर साथ नहीं छूटता तो कम से कम 19 सीटों पर नुकसान से बीजेपी बच जाती.

आंकड़ों के मुताबिक, डुमरी में बीजेपी को जहां 36,013 मत मिले, वहीं आजसू को 36,840 मत मिले हैं. जबकि गठबंधन प्रत्याशी जगन्नाथ महतो को 71,128 मत मिले और वह विजयी घोषित हुए. अगर बीजेपी और आजसू यहां साथ चुनाव लड़ती तब यहां उनकी विजय होती. इसी तरह जुगसलाई में बीजेपी को 66,647 तथा आजसू को 46,779 मत मिले, जबकि गठबंधन के प्रत्याशी 88,581 मत के साथ विजयी रहे.

चुनाव के पूर्व बीजेपी और आजसू में दरार पड़ने वाली सीटों में लोहरदगा भी शामिल है, जहां बीजेपी और आजसू दोनों उम्मीदवार उतारने को लेकर अड़े हुए थे. लोहरदगा के परिणाम भी बताते हैं कि बीजेपी, आजसू साथ चुनाव मैदान में जाते तो परिणाम उलट होता. लोहरदगा में बीजेपी को कुल 44,230 वोट मिले, जबकि आजसू ने 39,916 वोट हासिल किए.

गठबंधन प्रत्याशी कांग्रेस के रामेश्वर उरांव 74,380 मत पाकर यहां विजयी हो गए. ऐसी ही सीटों में ईचागढ़, नाला, जामा, रामगढ़, बड़कागांव, चक्रधरपुर, गांडेय, मधुपुर, घाटशिला शामिल हैं, जहां बीजेपी और आजसू को मिले मतों को जोड़ दिया जाए तो वह गठबंधन के प्रत्याशी से ज्यादा हो जाता है. 

बिहार के बीजेपी विधायक मिथिलेश तिवारी मानते हैं कि आजसू के साथ गठबंधन नहीं करना बड़ी भूल साबित हुई है. उन्होंने हालांकि यह भी माना कि 'यह किसी एक दल की जवाबदेही नहीं होती है. गठबंधन बनाए रखना दोनों दलों की जिम्मेदारी है. जब दल अड़ जाते हैं तो गठबंधन टूट जाता है, जिसका नुकसान दोनों दलों को उठाना पड़ता है.'

उल्लेखनीय है कि पिछले चुनाव में बीजेपी 72, आजसू आठ सीटों पर, जबकि लोजपा एक सीट पर लड़ी थी. बीजेपी को 37 सीटें मिली थीं. आजसू ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की थी. बीजेपी और आजसू गठबंधन की सरकार बनी थी. बाद में जेवीएम के छह विधायकों को तोड़कर बीजेपी ने संख्या बढ़ा ली थी.

पांच साल में झारखंड की राजनीति में काफी उठा-पटक हुई. आजसू जिन सीटों पर 2014 में दूसरे स्थान पर थी या जीत दर्ज की थी, उन्हीं सीटों पर उसने दावेदारी की. लेकिन बातचीत के बाद भी कोई हल नहीं निकला. बीजेपी आजसू के दावे को खारिज करती रही और आजसू अड़ी रही.

बीजेपी प्रदेश नेतृत्व ने उसके बाद आजसू के साथ सीटों के तालमेल को लेकर रणनीति नहीं बनाई. दोनों के बीच समन्वय का अभाव दिखा. सब कुछ दिल्ली के भरोसे छोड़ दिया गया. दिल्ली ने झारखंड की जमीनी हकीकत को नजरअंदाज कर तालमेल के लिए आजसू को कोई तवज्जो नहीं दी. इस चुनाव में बीजेपी को 25 सीटों पर संतोष करना पड़ा, वहीं आजसू दो सीटों पर मिट गई.