close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहारः सीएम नीतीश कुमार ने किया मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन

 मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को मधुबनी के रहिका प्रखंड के सौराठ में मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन और मिथिला ललित संग्रहालय भवन का शिलान्यास किया.

बिहारः सीएम नीतीश कुमार ने किया मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन
नीतीश कुमार ने मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन किया है.

मधुबनीः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को मधुबनी के रहिका प्रखंड के सौराठ में मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन और मिथिला ललित संग्रहालय भवन का शिलान्यास किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह भवन वर्ष 2020 तक बनकर तैयार हो जाने की संभावना है. मुख्यमंत्री ने उद्घाटन कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मिथिला पेंटिंग के प्रति देश के ही नहीं, विदेश के लोगों का भी लगाव है. पेंटिंग की इस शैली को प्रकृति के करीब बताते हुए उन्होंने कहा, "मिथिला पेंटिंग के जो तीनों प्रारूप हैं, उसमें सभी समाज के लोग हैं. मिथिला कला को और विकसित करने के प्रयास किए जाएंगे."

मुख्यमंत्री ने कहा कि पटना हवाईअड्डे का विस्तारीकरण किया जा रहा है, लोगों को उसकी टर्मिनल बिल्डिंग के अंदर और बाहर मिथिला पेंटिंग की झलक देखने को मिलेगी. उन्होंने कहा कि पटना शहर में भी सभी सरकारी भवनों की दीवारों पर मधुबनी पेंटिंग कराई जा रही है.

उन्होंने जोर देकर कहा, "हमलोगों की मधुबनी पेंटिंग के प्रति बहुत श्रद्धा है, आप सबलोगों के सहयोग से इसे और आगे बढ़ाएंगे. देश का विकास तब तक नहीं होगा, जब तक बिहार का विकास नहीं होगा और बिहार का विकास तब तक नहीं होगा, जब तक मिथिला का विकास नहीं होगा."

मिथिला चित्रकला संस्थान की औपचारिक शुरुआत करते हुए उन्होंने कहा कि इस समय 13 छात्र-छात्राओं का चयन किया गया, जिसमें 11 लड़कियां शामिल हैं. मिथिला चित्रकला संस्थान के लिए किराए पर एक भवन लेकर इन छात्र-छात्राओं को पढ़ाया जाएगा. इस संस्थान में पढ़ाने वाले आचार्य का चयन मिथिला पेंटिंग के क्षेत्र में सम्मानित लोगों के बीच से किया जाएगा. 

उन्होंने कहा कि मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय को पटना आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के साथ जोड़ा गया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि मिथिला चित्रकला के लिए दो तरह के कोर्स- सर्टिफिकेट कोर्स (6 माह) और डिग्री कोर्स चलाए जाएंगे. उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि सर्टिफिकेट कोर्स और डिग्री कोर्स करने वालों को आर्थिक सहायता भी दी जाएगी.

मुख्यमंत्री ने मिथिला को ज्ञान की भूमि बताते हुए कहा, "यहां के लोग खूब पढ़ें, तभी हम फिर से बिहार के गौरव को प्राप्त करने में कामयाब होंगे. हमारी प्राथमिकता सूची में मिथिला को आगे बढ़ाना भी शामिल है."

इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत पाग, अंगवस्त्र, पुष्पगुच्छ, मखाने की बड़ी माला और मिथिला पेंटिंग भेंट कर किया गया.

कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा, पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत और बिहार राज्य योजना परिषद के सदस्य संजय झा ने भी संबोधित किया.