close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाटलिपुत्र सीट पर महागठबंधन में रार, मीसा भारती के बाद कांग्रेस विधायक ने ठोका दावा

पाटलिपुत्र सीट पर आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की बेटी मीसा भारती के खिलाफ आरजेडी नेता और कांग्रेस नेता मैदान में उतर गए हैं.

पाटलिपुत्र सीट पर महागठबंधन में रार, मीसा भारती के बाद कांग्रेस विधायक ने ठोका दावा
कांग्रेस विधायक सिद्धार्थ ने भी पाटलिपुत्र सीट पर दावा किया है. (फाइल फोटो)

आशुतोष चंद्रा/पटनाः बिहार के पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर महागठबंधन में अब रार शुरू हो गई है. जहां एक ओर आरजेडी के दो लोग इस सीट पर ताल ठोक रहे हैं. वहीं, अब पाटलिपुत्र सीट पर कांग्रेस विधायक ने भी दावा कर दिया है. पाटलिपुत्र के रण में अब महागठबंधन के ही तीन नेता अपना दावा ठोक रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि पाटलिपुत्र सीट पर आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की बेटी मीसा भारती के खिलाफ आरजेडी नेता और कांग्रेस नेता मैदान में उतर गए हैं.

महागठबंधन में सीट शेयरिंग का कांटा अभी तक अटका हुआ है. जिसपर किसी तरह का फैसला नहीं लिया जा सका है. लेकिन महागठबंधन दल के नेता सीटों पर अपनी-अपनी दावेदारी कर रहे है. हालांकि पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर रार कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है. मीसा भारती ने सबसे पहले इसपर दावा किया था. जिसके बाद आरजेडी में ही घमासान शुरू हो गया. क्योंकि इस सीट पर आरजेडी के कद्दावर नेता भाई वीरेंद्र भी ताल ठोक रहे हैं.

वहीं, अब कांग्रेस विधायक सिद्धार्थ ने भी अपना दावा कर दिया है. ऐसे में महागठबंधन में रार दिखने लगा है. हालांकि मीसा भारती और भाई वीरेंद्र दोनों ने सीट का फैसला आरजेडी अध्यक्ष को सौंपा हैं. लेकिन नेता अपनी ओर से सीट पर तैयारी शुरू कर दी है.

आपको बता दें कि मीसा भारती ने बुधवार को बिक्रम विधानसभा क्षेत्र में एक कार्यक्रम किया था. इस कार्यक्रम में मीसा भारती का आरेजडी के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने विरोध किया था. उनका आरोप था कि मीसा भारती ने अपने कार्यक्रम में स्थानीय नेता को आमंत्रित तक नहीं किया है. वहीं, अपने कार्यक्रम के बैनर में स्थानीय विधायक की फोटो तक नहीं लगाई और न ही उन्हें आमंत्रित किया. इससे कार्यकर्ताओं ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए चेतावनी तक दे दी थी कि ऐसा रवैया रहा तो अंजाम बुरा होगा.

वहीं, अब कांग्रेस नेता और बिक्रम विधायक सिद्धार्थ ने भी पाटलिपुत्र से सीट से अपना दावा ठोक दिया है. उन्हें भी इस बात की नाराजगी है कि महागठबंधन में आरजेडी के साथ होने के बाद भी उन्हें उनके ही विधानसभा क्षेत्र में नकारा जा रहा है. कांग्रेस विधायक ने कहा है कि जिस दिन पाटलीपुत्र सीट कांग्रेस के खाते में आएगी उसी दिन जीत सुनिश्चित हो जाएगी.

कांग्रेस विधायक का दावा है कि जिस दिन पाटलीपुत्र सीट कांग्रेस के खाते में आएगा उसी दिन जीत सुनिश्चित हो जाएगी. कांग्रेस विधायक ने कहा है कि कांग्रेस किसान मजदूरों की पार्टी है. कांग्रेस को लेकर समाज में सभी जातीय बंधन टूट जाता है. हाल के दिनों में कांग्रेस का ग्राफ तेजी से बढ़ा है. कांग्रेस के पास हर सीट के लिए मजबूत उम्मीदवार है, और अगर पाटलीपुत्र सीट कांग्रेस के खाते में आती है तो मैं उसका प्रबल दावेदार हूं.

बहरहाल सीटों को लेकर महागठबंधन में रार शुरू हो गई है. इससे पहले मोतिहारी और गोपालगंज सीट पर आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा ने भी दावा ठोक दिया और कहा था कि आरएलएसपी ही दोनों लोकसभा सीट से उम्मीदवार होगा. वहीं, मुंगेर सीट पर भी महागठबंधन में घमासान जारी है. ऐसे में महागठबंधन में सीट शेयरिंग के फैसले का इंतजार किया जा रहा है.