close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंडः पारा शिक्षकों के हड़ताल से पलामू के 500 स्कूलों पर लटका ताला

पारा शिक्षकों की हड़ताल की वजह से पलामू में 500 स्कूल बंद है. वहीं, 1200 स्कूल प्रभावित हो रहे हैं.

झारखंडः पारा शिक्षकों के हड़ताल से पलामू के 500 स्कूलों पर लटका ताला
पलामू में 500 स्कूल पारा शिक्षकों की हड़ताल की वजह से बंद हैं.

पलामूः झारखंड स्थित पलामू जिले में बच्चों की शिक्षा चौपट हो गई है. यहां बच्चों का भविष्य अंधेरे में दिख रहा है. वहीं, सरकार से शिक्षक तक सभी बच्चों की शिक्षा से खिलवाड़ कर रहे हैं. दरअसल, पारा शिक्षक हड़ताल पर हैं, इनमें पलामू के पारा शिक्षक भी शामिल हैं. इस वजह से 500 स्कूलों पर ताला लटक गया है. यहां सभी स्कूल पूरी तरह से बंद पड़े हैं.

पारा शिक्षकों के हड़ताल पर जाने के बाद से स्कूल और बच्चे सभी भगवान भरोसे हैं. पलामू के चैनपुर प्रखंड का काराकाट बंदुआ विद्यालय हो या अलगडीहा प्राथमिक विद्यालय सभी बंद है. यही नहीं चैनपुर के 174 विद्यालयों पर ताला लटक रहा है. इस वजह से बच्चों का भविष्य खतरे में है.

वहीं, बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ होने की वजह से अभिभावक भी काफी नाराज हैं. बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि स्कूल करीब दो माह से बंद पड़ा है. बच्चे स्कूल नहीं जा रहे हैं. ऐसे में उनकी शिक्षा का भविष्य खतरे में है. बच्चों को अब कैसे पढ़ाएं उनके लिए परेशानी का सबब बन गया है.

यह हालत केवल चैनपुर की नहीं बल्कि जिले के सभी प्रखंडों के 500 स्कूलों पर ताला लटका हुआ है. पारा शिक्षकों की हड़ताल से 1200 स्कूल प्रभावित हो रहे हैं. आपको बता दें कि 5700 पारा शिक्षक 19 नवंबर से ही हड़ताल पर हैं. इस वजह से बच्चे स्कूल से अब बिलकुल ही दूर हो गए हैं.

सबसे चौकाने वाली बात यह है कि बच्चों को स्कूल जाना पसंद है और वह स्कूल से दूर हो रहे हैं. यही नहीं, बच्चों का कहना है कि स्कूल बंद होने की वजह से उन्हें अभिभावक बकड़ी चराने के लिए भेज रहे हैं.

ऐसे में जहां पारा शिक्षक हड़ताल खत्म करने का नाम नहीं ले रहे हैं. वहीं, सरकार की ओर से भी कोई पहल नहीं की जा रही है. ऐसे में शिक्षक और सरकार की जिद्द के कारण बच्चों के भविष्य पर खतरा मंडरा रहा है. साथ ही शिक्षा व्यवस्था बहाल कैसे होगी यह भी बड़ा सवाल है. एक ओर सरकार बच्चों को लगातर शिक्षा से जोड़ने की कवायद कर रही है. वहीं, अब बच्चे स्कूल से दूर हो रहे हैं.