close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम छीन रहा है बच्चों का बचपन!

मीनापुर के पिंकी की हालत कुछ ऐसी ही है. पिंकी अभी भी मुजफ्फरपुर के एक अस्पताल में एईएस से लड़ रही है, और वह शारीरिक और मानसिक रूप से बिल्कुल कमजोर हो गई है. 

बिहार में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम छीन रहा है बच्चों का बचपन!
चमकी बुखार से एसकेएमसीएच में इलाजरत बच्चा. (तस्वीर- ANI)

मुजफ्फरपुर : बिहार के मुजफ्फरपुर सहित करीब 20 जिलों में फैले एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण अभिभावक जहां अपने बच्चों को खोने को लेकर भयभीत हैं, वहीं इस बीमारी से पीड़ित बच्चे अपना बचपन खो रहे हैं. इस बीमारी से बचकर अस्पताल से घर लौटे बच्चों की स्थिति ठीक नहीं है. पहले से ही गरीबी और कुपोषण के शिकार इन बच्चों को एईएस ने पूरी तरह तोड़ दिया है. 

मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट के मंतोष कुमार अपनी पांच वर्षीय बेटी श्वेता का बचपन लौटाने के लिए अस्पताल, मंदिर-मस्जिद से लेकर झाड़-फूंक करने वाले ओझाओं के दरवाजे पर दस्तक दे चुके हैं, लेकिन श्वेता अपनी बचपन वाली ठिठोली और चंचलता भूल गई है.

मंतोष को इस बात का मलाल है कि उसकी नन्ही बच्ची की तोतली बोली की गूंज अब घर में धीमी हो गई है, परंतु उन्हें इस बात का संतोष भी है कि भगवान की कृपा से उनकी बच्ची कम से कम बच गई है. श्वेता उन बच्चों में से एक है, जिसे एक्यूट इंसेफलाइटिस सिन्ड्रोम (एईएस) ने अपनी चपेट में ले लिया था.

मंतोष कहते हैं, "17 जून को श्वेता को मुजफ्फरपुर के श्रीष्ण मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एसकेएमसीएच) इलाज के लिए ले जाया गया था और उसे 22 जून को छुट्टी दे दी गई." उन्होंने कहा, "श्वेता को तो घर ले आए, लेकिन उसकी हालत ठीक नहीं हुई. दूसरे ही दिन उसकी हालत एकबार फिर खराब हो गई. उसे ओझा-गुणी के पास ले गए, परंत कुछ नहीं हुआ."

यह स्थिति सिर्फ श्वेता की ही नहीं है. वे सभी बच्चे इस स्थिति से गुजर रहे हैं, जो एईएस का इलाज करा कर अस्पताल से घर लौट आए हैं. मुजफ्फरपुर, सारण, वैशाली जिलों में कई बच्चे ऐसे हैं, जिन्हें एईएस ने तोड़ कर रख दिया है. 

मीनापुर के पिंकी की हालत कुछ ऐसी ही है. पिंकी अभी भी मुजफ्फरपुर के एक अस्पताल में एईएस से लड़ रही है, और वह शारीरिक और मानसिक रूप से बिल्कुल कमजोर हो गई है. 

पिंकी के परिजन कहते हैं, "पिंकी शाम को लीची बागान गई थी और रात में भोजन नहीं किया और देर रात बेहोश हो गई. जब होश आया तब वह कमजोर नजर आने लगी."

एईएस के फैलने के बाद स्वसंसेवी संस्थाओं, सरकार और नेताओं द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में राहत और जागरूकता अभियान चलाने की बात कही जा रही है, लेकिन लाख टके का सवाल यह है कि अगर सरकार वषरें से इस बीमारी से निपटने की कोशिश कर रही है, फिर भी इस बीमारी से बच्चों का बचपन क्यों बर्बाद हो रहा है. 

उल्लेखनीय है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर में एसकेएमसीएच का दौरा कर चिकित्सकों को आवश्यक निर्देश दे चुके हैं. 

एसकेएमसीएच के शिशु रोग विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. गोपाल शंकर सहनी कहते हैं कि इस बीमारी से उबरने वाले बच्चों को मानसिक रूप से कमजोर होने का डर बना रहता है. सहनी के मुताबिक बीमारी का प्रारंभ में पता चल जाए तो पीड़ित की जान बचाई जा सकती है. 

गौरतलब है कि 15 वर्ष तक की उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं, और मरने वाले बच्चों में से अधिकांश की उम्र एक से सात साल के बीच है. 

उल्लेखनीय है कि इस वर्ष अब तक 155 से ज्यादा बच्चों की मौत एईएस से हो चुकी है. एसकेएमसीएच में अबतक 436 एईएस पीड़ित बच्चे इलाज के लिए पहुंच चुके हैं. इनमें से 111 बच्चों की मौत हो गई है, जबकि 290 बच्चों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है.