Breaking News
  • बिहार के लोग इतनी बड़ी आपदा का डटकर मुकाबला कर रहे हैं, इसके लिए बधाई: पीएम मोदी
  • बिहार विधान सभा चुनावी रैली में पीएम मोदी ने भोजपुरी में लोगों को किया प्रणाम
  • कोरोना के इस समय में भी गरीबों को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए एनडीए सरकार ने काम किया: पीएम मोदी

RS चुनाव के लिए सचिवालय ने जारी की वोटर लिस्ट, बाबूलाल BJP MLA की सूची में शामिल

बाबूलाल मरांडी को बीजेपी विधायकों की सूची में शामिल किया गया है. जबकि, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की को निर्दलीय विधायक के तौर पर सूचीबद्ध किया गया है.

RS चुनाव के लिए सचिवालय ने जारी की वोटर लिस्ट, बाबूलाल  BJP MLA की सूची में शामिल
RS चुनाव के लिए सचिवालय ने जारी की वोटर लिस्ट, बाबूलाल BJP MLA की सूची में शामिल.

रांची: झारखंड विधानसभा सचिवालय ने सोमवार को राज्यसभा चुनाव (Rajyasabha Chunav 2020) के वोटर लिस्ट की सूची जारी की है. इस सूची में, पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) को बीजेपी (BJP) विधायकों की सूची में शामिल किया गया है. जबकि, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की को निर्दलीय विधायक के तौर पर सूचीबद्ध किया गया है.

बता दें कि, बाबूलाल मरांडी की इस साल जनवरी महीने में लंबे समय बाद बीजेपी में वापसी हुई है. बाबूलाल मरांडी ने कई वर्षों पूर्व बीजेपी से नाराज होकर झारखंड विकास मोर्चा (JVM) का गठन किया था. इसी दल में, प्रदीप यादव और बंधु तिर्की भी शामिल थे. लेकिन झारखंड विधानसभा चुनाव में जेवीएम का प्रदर्शन कुछ खास नहीं था और पार्टी के सिर्फ 3 नेता ही विधायक बन पाए थे.

ऐसे में, चुनाव के बाद, बाबूलाल मरांडी ने अपनी पार्टी का बीजेपी में विलय कर दिया था. इससे नाराज होकर प्रदीप यादव और बंधु तिर्की बगावती तेवर अपना लिए थे, जिसके बाद दोनों विधायकों को जेवीएम से निष्कासित कर दिया गया था. इसके बाद, दोनों नेता झारखंड कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस प्रमुख से मुलाकात की थी. साथ ही, कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

हालांकि, बीजेपी ने बाबूलाल मरांडी को बीजेपी विधायक दल का नेता घोषित कर दिया है. साथ ही, विधानसभा में उन्हें नेता प्रतिपक्ष बनाने की लगातार मांग भी कर रही है.

हालांकि, उन्हें अभी तक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष नहीं बनाया गया है. इस बीच, बाबूलाल मरांडी का विधानसभा सचिवालय द्वारा बीजेपी विधायकों की सूची में नाम शामिल करना, राज्यसभा चुनाव से पहले भाजपा के लिए राहत की बात है.