close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड यूथ कांग्रेस ने किया विधानसभा का घेराव, हिरासत में लिए गए सभी कार्यकर्ता

मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाएं बिजली पानी की समस्या, लचर लॉ एन्ड ऑर्डर सहित कई मुद्दों को लेकर गुरुवार को झारखंड यूथ कांग्रेस का हल्ला बोल कार्यक्रम हुआ. 

झारखंड यूथ कांग्रेस ने किया विधानसभा का घेराव, हिरासत में लिए गए सभी कार्यकर्ता
झारखंड यूथ कांग्रेस विधानसभा का घेराव करने पहुंचे थे.

रांचीः मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाएं बिजली पानी की समस्या, लचर लॉ एन्ड ऑर्डर सहित कई मुद्दों को लेकर गुरुवार को झारखंड यूथ कांग्रेस का हल्ला बोल कार्यक्रम हुआ. कार्यक्रम के तहत झारखंड विधानसभा का घेराव किया गया. हालांकि, पुलिस ने विधानसभा घेराव के दौरान तमाम नेता और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर कैम्प जेल भेज दिया.

राजधानी रांची में एक तरफ जहां विभिन्न मुद्दों को लेकर विधानसभा के अंदर विपक्ष का विरोध चल रहा था. वहीं, दूसरी तरफ यूथ कांग्रेस सड़कों पर उतरकर राज्य की मौजूदा हालात पर विरोध कर रहा था. पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत झारखंड प्रदेश यूथ कांग्रेस का राज विधानसभा घेराव कार्यक्रम था. जिसे लेकर पहले ही कांग्रेस के सभी विधायकों ने मंच साझा किया.

मामले पर जानकारी देते हुए पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने राज्य की सरकार की नाकामियों को गिनाते हुए कहा कि यह जनता का रोष है इसीलिए वह सड़क पर हैं.

विधानसभा घेराव से पहले बिरसा चौक पर  जनसभा आयोजित करने के बाद यूथ कांग्रेस के तमाम नेता और कार्यकर्ता अपने युवा नेताओं की अगुवाई में विधानसभा घेरने पहुंचे. पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत प्रशासन ने भी व्यवस्था सख्त कर रखी थी.

जैसे ही बिरसा चौक की गेट की बैरिकेडिंग के पास प्रदर्शनकारी पहुंचे, उन्हें प्रशासन द्वारा रोका गया इस दौरान प्रदर्शनकारी और पुलिस के बीच थोड़ी धक्का-मुक्की भी देखने को मिली जिसमें कुछ कार्यकर्ता घायल भी हुए. वहीं, प्रदर्शन को देखते हुए अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ-साथ वाटर कैनन वाहन, व्रज वाहन, आंसू के गोले की भी तैयारियां प्रशासन ने की थी. लेकिन इसके इस्तेमाल करने से पहले ही तमाम प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया गया.

बहरहाल, यूथ कांग्रेस की तरफ से विधानसभा घेराव कार्यक्रम किया गया, तकरीबन 3 घंटे से ज्यादा चले इस विरोध प्रदर्शन के बाद तमाम प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की गई.