बिहार के जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर, एम्स के छात्रों को सीट दिए जाने से नाराज

 एनएमसीएच और पीएमसीएम में हड़ताल के कारण एमरजेंसी, OPD  सेवा समेत अस्पताल के सभी कार्य ठप पड़ा हुआ है. 

बिहार के जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर, एम्स के छात्रों को सीट दिए जाने से नाराज
हड़ताल की वजह से मरीजों की परेशानी बढ़ गई है. (फाइल फोटो)

पटना: राज्य मेडिकल कॉलेजो में पीजी की सीटों में एम्स के छात्रों को सीट दिए जाने उम्र सीमा बढ़ाने को मांग और स्टाईपेंड में बढ़ोतरी किये जाने समेत कई मांग को लेकर पूरे बिहार के चिकित्सक अनिश्चित कालीन हड़ताल पर है. 

 पीएमसीएच और एनएमसीएम में हड़ताल के कारण एमरजेंसी, OPD  सेवा समेत अस्पताल के सभी कार्य ठप पड़ा हुआ है. इस वजह से मरीजों की परेशानी बढ़ गई है. अस्पताल के वार्ड में भर्ती मरीज हड़ताल की वजह से प्रभावित हो रहे हैं. इसके साथ अस्पताल में आने वाले मरीजो की भी परेशानी बढ़ गई है.

हड़ताल के कारण मरीजों को अस्पताल से लौटना पड़ रहा है. वहीं, अस्पताल में पहुंचे गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर मरीज के परिजन-चिकित्सक हड़ताल से आक्रोशित हैं. उनका कहना है कि आपरेशन की तारीख दिए जाने पर वो 500 रुपया भाड़ा लगा कर बक्सर से यहां इलाज कराने पहुंचे है लेकिन यहां से उन्हें लौटाया जा रहा है.

हड़ताल के कारण आर्थिक रूप से मजबूत मरीज के परिजन अस्पताल को छोड़ कर प्राईवेट अस्पताल की ओर रुख कर रहे. डॉक्टरों की माने तो राज्य सरकार जब तक उनकी माँगो को पूरा नहीं करेंगे तक तक हड़ताल जारी रहेगा. अस्पताल के अधीक्षक का कहना था की बाहर से चिकित्सको को बुलाया गया है. अस्पताल में भर्ती मरीज को कोई परेशानी नहीं होगी .