बिहार को मक्का, गेहूं के लिए मिलेगा कृषि कर्मण पुरस्कार

केंद्र सरकार द्वारा बिहार को कृषि क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ उत्पादन के लिए एक साथ दो-दो कृषि कर्मण पुरस्कार दिए जाएंगे. बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने बताया कि 2016-17 के लिए मोटे अनाज की श्रेणी में मक्का और 2017-18 के लिए गेहूं श्रेणी में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर कृषि कर्मण पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है.  

बिहार को मक्का, गेहूं के लिए मिलेगा कृषि कर्मण पुरस्कार
बिहार को कृषि क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ उत्पादन के लिए एक साथ दो-दो कृषि कर्मण पुरस्कार दिए जाएंगे.

पटना: केंद्र सरकार द्वारा बिहार को कृषि क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ उत्पादन के लिए एक साथ दो-दो कृषि कर्मण पुरस्कार दिए जाएंगे. बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने बताया कि 2016-17 के लिए मोटे अनाज की श्रेणी में मक्का और 2017-18 के लिए गेहूं श्रेणी में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर कृषि कर्मण पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है.

उन्होंने बताया कि ये दोनों पुरस्कार अगले वर्ष तीन जनवरी को बेंगलुरू में आयोजित समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए जाएंगे. प्रत्येक पुरस्कार में दो-दो करोड़ रुपये, ट्रॉफी और प्रशस्तिपत्र मिलेगा. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पुरस्कार लेने के लिए राज्य के मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री, सचिव, कृषि विभाग एवं कृषि निदेशक को आमंत्रित किया है. 

कृषि विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में 2016-17 में मक्का का कुल उत्पादन 38.46 लाख म्रिटीक टन और उत्पादकता 53.35 कुंटल प्रति हेक्टेयर दर्ज की गई थी, जो एक रिकॉर्ड है. वर्ष 2016-17 में राज्य में मक्का का उत्पादकता राष्ट्रीय स्तर पर सर्वाधिक हुआ था. 

वर्ष 2017-18 में राज्य में गेहूं का कुल उत्पादन 61.04 लाख म्रिटीक टन और उत्पादकता 29.05 कुंटल प्रति हेक्टेयर दर्ज की गई थी. 

उल्लेखनीय है कि बिहार को पांचवी बार कृषि कर्मण पुरस्कार मिला है. बिहार को सबसे पहले 2011-12 में चावल में सर्वाधिक उत्पादन के लिए कृषि कर्मण पुरस्कार से नवाजा गया था.