धारा 370 पर लालू परिवार ने साधी चुप्पी, बिहार की सियासी फिजा गरमाई

जम्मू कश्मीर से धारा 370 खत्म होने को लेकर पूरे देश में प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है. कुछ लोग विपक्ष में तो ज्यादातर लोग धारा 370 के खत्म होने के समर्थन में नजर आ रहे हैं.

धारा 370 पर लालू परिवार ने साधी चुप्पी, बिहार की सियासी फिजा गरमाई
धारा 370 मामले पर लालू परिवार ने साधी चुप्पी. (फाइल फोटो)

पटना : राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सांसदों ने राज्यसभा में धारा 370 को खत्म करने के विरोध में भले ही वोटिंग की हो, लेकिन मामले पर लालू परिवार ने चुप्पी साध ली है. हर छोटे बड़े मसले पर ट्वीट करने वाले लालू परिवार का इतने बड़े मसले पर चुप्पी साधना सियासी गलियारे में चर्चा का विषय बना हुआ है.

जम्मू कश्मीर से धारा 370 खत्म होने को लेकर पूरे देश में प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है. कुछ लोग विपक्ष में तो ज्यादातर लोग धारा 370 के खत्म होने के समर्थन में नजर आ रहे हैं. लेकिन फैसला नहीं कर पाने की स्थिती में है तो वह है लालू परिवार. हलांकि आरजेडी के सांसदों ने धारा 370 के खत्म होने के विरोध में सदन में वोटिंग की है, लेकिन लालू परिवार अभी तक मसले पर चुप्पी साधे हुए है.

आमतौर पर बड़े और छोटे मसले पर ट्विटर के जरिये प्रतिक्रिया देने वाले तेजस्वी यादव ने भी चुप्पी साध ली है. यहां तक कि लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और तेजप्रताप यादव का  ट्विटर अकाउंट भी खामोश है. यह कोई पहला मौका नहीं है, जब लालू परिवार किसी बड़ मसले पर खामोश हो. इससे पहले संसद से ट्रिपल तलाक बिल पास होने के मसले पर भी लालू परिवार खामोश था. लालू परिवार की चुप्पी सियासी गलियारे में चर्चा का विषय बना हुआ है.  

बीजेपी के विधायक नितिन नवीन ने मामले पर चुटकी ली है. बीजेपी विधायक ने कहा है कि मुझे लगता है उन्हें सदबुद्धि आयी है, इसलिए लालू परिवार चुप्पी साधे है. जिस मसले पर पूरा देश एक हो गया वहां विरोध का कोई कोई मतलब नहीं. हालांकि कुछ लोग अपनी राजनीति चमकाने के लिए विरोध जरूर कर रहे हैं. वहीं, बीजेपी उपाध्यक्ष मृत्युंजय झा ने कहा है कि ट्विटरबाजों की चुप्पी हैरान करने वाली है. हर मसले पर ट्विट करनेवाले आज खामोश क्यों हैं? ऐसे मामलों पर खमोश रहना ठीक नहीं.

कांग्रेस एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा ने लालू परिवार का बचाव किया है. कांग्रेस नेता ने कहा है कि ट्विटर पर लिखने से कोई फर्क नहीं पड़ता है. आरजेडी ने सदन के अंदर बिल के खिलाफ वोट किया है. आरजेडी कांग्रेस के साथ खड़ी है. सोच में फर्क तो जेडीयू, टीआरएस और बीएसपी की है, जो कहते कुछ और करते कुछ और हैं.

आरजेडी विधायक राहुल तिवारी ने भी लालू परिवार का बचाव किया है. आरजेडी विधायक ने कहा है कि हमारी पार्टी धारा 370 के मसले पर खामोश नहीं है. सांसद मनोज झा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी जैसे पार्टी के नेताओं ने पार्टी का रुख स्प्ष्ट कर दिया है. सवाल तो जेडीयू को लेकर है जो बिल का विरोध भी कर रही और बिल के खिलाफ वोट भी नहीं डाली.

लालू परिवार की चुप्पी पर कयासों का बाजार गर्म हो चुका है. सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं कि जब पार्टी के सांसदों ने सदन में बिल का विरोध किया तो सदन के बाहर लालू परिवार कुछ भी बोलने से परहेज क्यों कर रहा है. बोलने में परेशानी है तो ट्विटर के जरिये लालू परिवार अपने समर्थकों को मैसेज तो दे ही सकता था.  

लाइव टीवी देखें-: