लालू यादव के समर्थकों ने कहा- अगर जमानत नहीं मिली तो बैठेंगे भूख हड़ताल पर

लालू यादव  के समर्थकों का कहना है कि अगर उन्हें जमानत नहीं मिला तो वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे.  

लालू यादव के समर्थकों ने कहा- अगर जमानत नहीं मिली तो बैठेंगे भूख हड़ताल पर
लालू यादव की जमानत के लिए समर्थक करेंगे भूख हड़ताल. (फाइल फोटो)

रांचीः आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की जमानत याचिका पर शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई जारी है. लालू यादव की ओर से कपिल्ल सिब्बल रख रहे हैं. वहीं, सीबीआई भी अपना पक्ष कोर्ट के सामने रख रहा है. आरजेडी समर्थक कोर्ट के बाहर आस में खड़े हैं कि उनके नेता को जमानत मिल जाएगी. वहीं, समर्थकों का कहना है कि अगर उन्हें जमानत नहीं मिला तो वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे.

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की जमानत याचिका पर हाईकोर्ट में सुनवाई की जा रही है. वहीं, समर्थकों को विश्वास है कि उनके नेता को जमानत दे दी जाएगी. समर्थकों का मानना है कि लालू यादव की तबीयत बेहद खराब है इसलिए उन्हें इलाज के लिए कोर्ट जमानत दे देगी.

वहीं, आरजेडी समर्थकों का कहना है कि अगर लालू यादव को कोर्ट से जमानत नहीं दिया गया तो वह भूख हड़ताल पर बैठेंगे. जब तक लालू यादव को जमानत नहीं मिल जाती है तब तक भूख हड़ताल पर बैठे रहेंगे.

आपको बता दें कि लालू यादव चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता हैं. कोर्ट के सजा सुनाने के बाद उन्हें रांची के होटवार जेल में भेजा गया था, लेकिन उनकी तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें रिम्स अस्पताल भेजा गया था. जहां वह लगातार इलाजरत हैं. 

लालू यादव को पहले भी कोर्ट ने इलाज के लिए जमानत दिया था. लेकिन बाइपास सर्जरी के बाद उन्हें कोर्ट ने फिर से वापस जेल भेजने का निर्णय लिया. उनकी जमानत की तारीख को आगे नहीं बढ़ाया गया. वहीं, उन्हें फिर से रिम्स में डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया. तब से वह रिम्स में ही इलाज कर रहे हैं. लेकिन इन दिनों फिर से बीमारी बढ़ने की बात कही जा रही है.

लालू यादव ने अपनी बीमारियों और उम्र का हवाला देते हुए कोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी. वहीं, लालू यादव को जमानत मिलने की आशा आरजेडी समेत महागठबंधन के नेता भी लगा रखे हैं. उनका मानना है कि लालू यादव को जमानत मिलनी ही चाहिए.

बहरहाल, शुक्रवार को हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है. अब कोर्ट क्या फैसला लेगा यह सुनावाई पूरी होने के बाद ही पता चल पाएगा. लेकिन समर्थकों के भूख हड़ताल करने की चेतावनी के बाद कोर्ट क्या लालू यादव के पक्ष में फैसला लेगा? अगर फैसला नहीं होता है तो क्या समर्थक कोर्ट के फैसले के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठेंगे?