close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

LIVE: SC/ST एक्ट के विरोध में बंद को मध्यप्रदेश सहित बिहार, राजस्थान और महाराष्ट्र में मिला समर्थन

 बंद के आह्वान के बाद से ही मध्य प्रदेश के ग्वालियर में सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम कड़े कर दिये गए हैं. ग्वालियर में 1500 सुरक्षाकर्मी तैनात किये गए हैं. वहीं भिंड में कड़ी निगरानी के बाद भी प्रदर्शनकारियों ने जमकर उपद्रव मचाया. प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पुलिस पर पत्थरबाजी भी की.

LIVE: SC/ST एक्ट के विरोध में बंद को मध्यप्रदेश सहित बिहार, राजस्थान और महाराष्ट्र में मिला समर्थन
फोटो साभारः ANI
Play

नई दिल्लीः सपाक्स द्वारा भारत बंद के आह्वान को मध्य प्रदेश के कई जिलों में पूरा समर्थन मिल रहा है. प्रदेश के 19 जिलों में बंद के आह्वान के बाद से ही निशेधाज्ञा लागू कर दी गई है. प्रदेश के कई जिलों में जगह-जगह पर पुलिस बल तैनात है. ग्वालियर में बंद का समर्थन करते हुए व्यापारी वर्ग ने भी सभी दुकानों पर ताले जड़ दिये हैं. वहीं भोपाल में भी मंडी से लेकर सभी पेट्रोल पंप 4 बजे तक के लिए बंद रखे गए हैं. ग्वालियर में बंद के आह्वान के बाद से ही पुलिस बल सतर्क हो गई थी. शांति व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से जिले के 241 शस्त्र लाइसेंस धारियों के शस्त्र लाइसेंस निलंबित कर दिये गए थे. वहीं भिंड में बंद के दौरान उपद्रवियों द्वारा पत्थरबाजी की भी खबरें हैं. इसके अलावा जबलपुर संभाग में भी बंद का व्यापक असर देखने को मिल रहा है. इसके साथ ही उज्जैन में भी सभी जगह बंद का असर है. शहर में मेडिकल स्टोर से लेकर बस सेवा भी बंद हैंं. राजधानी भोपाल के सभी इलाकों में सन्नाटा छाया हुआ है. ग्वालियर में सर्विलांस के ड्रोन से रखी जा रही नजर. वहीं कई जगहों पर ट्रेन सेवाएं भी बंद के चलते प्रभावित रहीं.

 

बाजार सहित गली मोहल्ले पर भी नजर
मध्य प्रदेश में हिंसा के इनपुट मिलने पर ग्वालियर एसपी लवनीत भसीन का कहना है कि पुलिस की पूरे शहर में निगाह है. सोशल मीडिया समेत हर गली मोहल्ले की निगरानी की जा रही है. अब तक किसी भी अप्रिय स्थिति की खबर नहीं है. पुलिस ने ग्वालियर के थाटीपुर इलाके खांसी घेराबंदी करके रखी है. यह वही इलाका है जहां बीती 2 अप्रैल को SC ST आंदोलन के वक्त भारी हिंसा हुई थी. पुलिस ने यहां बड़ी तादाद में फोर्स की तैनाती कर रखी है. मध्य प्रदेश के शहडोल में एससी एसटी एक्ट को लेकर महाबंद समर्थकों की पुलिस से जमकर झड़प हो गई. जिसके चलते एक प्रदर्शनकारी का सिर भी फूट गया. वहीं प्रदर्शन के दौरान हुई इस कार्यवाई पर भीड़ में काफी गुस्सा देखने को मिला. व्यक्ति का सिर फूटने के बाद सभी प्रदर्शनकारी सड़क पर उतर आए हैं.LIVE: Bharat band live updates, security beefed up in Madhya Pradesh, Maharashtra and Bihar

बिहारः दरभंगा, छपरा और मुंगेर में प्रदर्शनकारियों ने रोकी ट्रेनें
बिहार में भी बंद को पूरा समर्थन मिल रहा है. बिहार में प्रदर्शनकारी उग्र आंदोलन पर उतर आए हैं, जिसके चलते पुलिस को हवाई फायरिंग भी करनी पड़ी, लेकिन पुलिस ने हवाई फायरिंग से इनकार किया है. पटना में प्रदर्शनकारी ट्रेन की पटरी पर जा बैठे हैं, जिससे बिहार में ट्रेन सेवाएं पूरी तरह से अवरुद्ध हो गई हैं. वहीं नालंदा में जगह-जगह पर प्रदर्शनकारी उग्र प्रदर्शन पर उतर आए हैं.. नालंदा के कई इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर आगजनी कर सड़क सेवाएं भी अवरुद्ध कर रखी है. बंद के आह्वान के बाद से ही बिहार में व्यापारी वर्ग सहित छोटे कारोबारियों ने भी इसका पूरा समर्थन किया है. बिहार के दरभंगा, मुंगेर और छपरा में प्रदर्शनकारी ट्रेन की पटरियों पर बैठकर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं छत्तीसगढ़ में भारत बंद का कोई असर देखने नहीं मिला. राज्य के सभी जिलों में सेवाएं बिना किसी अवरोध के जारी हैं.

 

 

महाराष्ट्रः बंद को मिला पूर्ण समर्थन
महाराष्ट्र में भी सपाक्स द्वारा बंद के आह्वान को पूरा समर्थन मिला है. ठाणे में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं और एससी-एसटी एक्ट का पुरजोर विरोध कर रहे हैं. महाराष्ट्र में दुकानों से लेकर पेट्रोल पंप बंद हैं. बंद का असर देखते हुए स्कूलों 5 सितंबर को ही स्कूलों की छुट्टी का ऐलान कर दिया गया था. महाराष्ट्र के कई इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर जाम लगा दिया है. वहीं इंटेलिजेंस के मुताबिक कुछ असामाजिक तत्व भीमा-कोरेगांव जैसे दंगे भड़काने की कोशिश में लगे हैं, जिसके चलते महाराष्ट्र के संदिग्ध इलाकों में ड्रोन्स की मदद से नजर रखी जा रही है.

 

 

राजस्थानः अजमेर, अलवर, दौसा में बंद का व्यापक असर
वहीं राजस्थान में भी बंद का व्यापक असर देखने को मिल रहा है. राजस्थान में हर जगह पुलिस के जवान तैनात नजर आ रहे हैं. राज्य के हर शहर में पुलिस की गाड़ियां गश्त कर रही हैं. आज के बंद को लेकर पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है. पुलिस-प्रशासन इस बार कोई चूक नहीं करना चाहता है. पुलिस द्वारा सवर्ण समाज के लोगो को उपद्रव नहीं करने की समझाईश पहले ही दी जा चुकी है. इसके साथ ही राजस्थान में बंद का आह्वान करने वाले सवर्ण समाज के नेताओं पर भी पुलिस की नजर बनी हुई है. राजस्थान के दौसा सहित डूंगरपुर, अलवर और अजमेर में बंद के चलते सभी स्कूल-कॉलेज और सरकारी दफ्तर बंद रखे गए हैं.

 

 

उत्तर प्रदेशः वाराणसी, लखनऊ में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी
उत्तरप्रदेश में भी भारत बंद को सवर्ण समाज का पूरा समर्थन मिल रहा है. उत्तर प्रदेश के वाराणसी, लखनऊ, इलाहाबाद में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं. प्रदेश के कई बड़े शहरों में सुबह से ही दुकानों से लेकर मेडिकल स्टोर तक में ताले लगे हुए हैं. वहीं प्रदेश के इन हिस्सों में आगजनी और हिंसा के भी इनपुट हैं. ऐसे में संदिग्ध इलाकों पर नजर रखने के लिए पुलिस बल की तैनाती के साथ ही सीसीटीवी कैमरों की भी मदद ली जा रही है.