गरीब परिवार के छात्रों के लिए पीयूष ने छोड़ दी इंफोसिस की नौकरी, लर्निंग ऐप किया लॉन्च

पीयूष ने कहा कि ऐप को गरीब परिवार के बच्चों के लिए बनाया है, जो घर से बाहर रहकर पढ़ाई नहीं कर सकते हैं या बड़े-बड़े नामी शिक्षकों से पढ़ाई के लिए पैसे नहीं जुटा पाते हैं.

गरीब परिवार के छात्रों के लिए पीयूष ने छोड़ दी इंफोसिस की नौकरी, लर्निंग ऐप किया लॉन्च
इंफोसिस में काम के दौरान ही साथियों के साथ मिलकर एक लर्निंग वेबसाइट डेवलप किया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मोतिहारी : पूर्वी चम्पारण के एक युवक ने आईटी कंपनियों की नौकरी छोड़ गरीब छात्रों के लिए काम करना शुरू किया है. आईटी इंजिनियर युवक ने गरीब परिवार के छात्रों के लिए एक लर्निंग ऐप भी लॉन्च किया है. छात्र इस ऐप के माध्यम से जाने-माने शिक्षकों से लाइव पढ़ाई कर सकेंगे. ऐप को मोतिहारी के एक प्राइवेट स्कूल में छात्रों के बीच लॉन्च किया गया है.

मोतिहारी नगर के चांदमारी के रहने वाले पीयूष ने गरीबी को नजदीक से देखा है. लिहाजा, जूनियर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर खुद की पढ़ाई की. इसके बाद पीयूष ने अपनी काबिलियत के दम पर इंफोसिस जैसी कंपनी में भी काम किया.

इंफोसिस में काम के दौरान ही अपने तीन साथियों के साथ मिलकर पीयूष ने एक लर्निंग वेबसाइट डेवलप किया है. इस वेबसाइट में उन्होंने देश के विभिन्न विषयों के मशहूर शिक्षकों को जोड़ा है. पीयूष ने इसे अब एक कम्पनी का रूप दे दिया है. साइट का ऐप भी लांच किया है. पीयूष ने कहा कि ऐप को गरीब परिवार के बच्चों के लिए बनाया है, जो घर से बाहर रहकर पढ़ाई नहीं कर सकते हैं या बड़े-बड़े नामी शिक्षकों से पढ़ाई के लिए पैसे नहीं जुटा पाते हैं.

पीयूष कहना है कि वे अपने जिले के बच्चों के भविष्य के लिए ये सब कर रहे हैं. उनकी मुहीम में कई कोचिंग संस्थाओं ने प्रोजेक्टर लगाकर पढ़ाई शुरू भी कर दिया है. केजी से 12वीं तक की पढ़ाई के लिए पीयूष लाइव लर्निंग ऐप में कई बदलाव कर रहे हैं.

मोतिहारी के प्राइवेट स्कूल में ऐप लांच करने और छात्रों को पढाई में हो रही सुविधा से वे खुश हैं. छात्र अब इस ऐप के सहारे अपनी पढ़ाई को पूरा करना चाहते हैं. बच्चों को रोजगार परख पढ़ाई की जरुरत है. इस जरुरत में सहयोग करने वालों की आवश्यकता है. पीयूष का प्रयास अगर बच्चों को उच्च शिक्षा में सहयोग करने में सहयोगी साबित हो रही है, जो कि काबिले तारीफ है.