मधेपुरा: बेटियों का अपमान फिर आया सामने, लावारिस हालत में मिली नवजात बच्ची

 एक नवजात मासूम बच्ची मुरलीगंज रेलवे स्टेशन पर रात के अंधेरे में रोते बिलखते पड़ी थी. बच्ची की जानकारी होने पर लोगों ने इसकी सूचना अस्पताल को दी.

मधेपुरा: बेटियों का अपमान फिर आया सामने, लावारिस हालत में मिली नवजात बच्ची
स्टेशन पर मिली नवजात बच्ची. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मधेपुरा: बिहार के मधेपुरा के मुरलीगंज रेलवे स्टेशन पर लावारिस हालत में नवजात मासूम के मिलने को लेकर शहर में चर्चाओं का बाजार गर्म है. एक तरफ जहां समाज में स्त्री को देवी का दर्जा दिया जाता है तो वहीं बेटी के प्रति उसका तिरस्कार एक बार फिर सामने आया है.

दरअसल मां की मज़बूरी कहें या उसे कु-माता कहें. एक नवजात मासूम बच्ची मुरलीगंज रेलवे स्टेशन पर रात के अंधेरे में रोते बिलखते पड़ी थी. बच्ची की जानकारी होने पर लोगों ने इसकी सूचना अस्पताल को दी.

इसके बाद मासूम बच्ची को मुरलीगंज पीएचसी लाया गया. यहां चिकित्सकों ने उसका स्वास्थ्य जांच किया तो बच्ची पूरी तरह स्वस्थ्य पाई गई. लावारिस बच्ची की सूचना जिले के चाइल्ड केयर यूनिट को दी गई जहां के कर्मचारी बच्ची को अपने साथ लेकर मधेपुरा पहुंचे.

इस दौरान मुरलीगंज पीएसी प्रभारी संजीव कुमार ने कहा कि लावारिस हालत में मिली बच्ची की तत्काल स्वास्थ्य जांच करके जिले के चाइल्ड स्पेशलिस्ट को सौंप दिया गया है. फिलहाल बच्ची पूरी तरह स्वस्थ है. वहीं चाइल्ड डिपार्टमेंट के कोमल कुमार ने कहा कि मुरलीगंज प्रभारी के द्वारा सुचना दी गई थी.