close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार से कुख्यात गौ तस्कर गिरफ्तार, असम पुलिस डेढ़ साल से कर रही थी तलाश

 पुलिस ने ख़ुफ़िया इनपुट पर असम और पूर्वोत्तर राज्यों के कुख्यात गौ तस्कर को जहा गिरफ्तार किया है.

बिहार से कुख्यात गौ तस्कर गिरफ्तार, असम पुलिस डेढ़ साल से कर रही थी तलाश
कुख्यात गौ तस्कर मो. सरफराज को गिरफ्तार किया गया है.

गोपालगंजः पुलिस ने ख़ुफ़िया इनपुट पर असम और पूर्वोत्तर राज्यों के कुख्यात गौ तस्कर को जहा गिरफ्तार किया है. वहीं, इस तस्कर की गिरफ़्तारी के बाद असम सरकार और पुलिस ने राहत की सांस ली है. दरअसल, जिस तस्कर की गिरफ़्तारी हुई है. असम सरकार पिछले डेढ़ साल से इसे गिरफ्तार करने की योजना बना रही थी. लेकिन यह तस्कर बांग्लादेश की सीमा में घुसकर शरण लेता था.

गोपालगंज पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार तस्कर हवाला का भी बड़ा कारोबारी है. जो पशुओं की तस्करी के बदले हवाला के जरिये बांग्लादेश से पैसे का बड़े पैमाने पर ट्रांजेक्शन करता था. यह गिरफ़्तारी एसपी प्रभारी विनय तिवारी के नेतृत्व में फुलवरिया के पाण्डेय परसा गाँव से की गयी है.

एसपी विनय तिवारी ने बताया की गिरफ्तार अन्तरराष्ट्रीय गौ तस्कर का नाम मो. सरफराज है. वह फुलवरिया के पाण्डेय परसा गांव का रहने वाला है. यह तस्कर असम और पूर्वोत्तर राज्यों से गायों की तस्करी कर उन्हें बांग्लादेश भेजता था. फिर बांग्लादेश से उसके बदले हवाला के जरिये पैसे का कारोबार करता था. यह कुख्यात तस्कर पिछले 8 साल से पूर्वोत्तर राज्यों में सक्रिय था. जो देश के चिकेन नेक कहे जाने वाले चिकेन नेक कॉरिडोर के जरिये गौ तस्करी कर उन्हें बांग्लादेश में भेजने का नेटवर्क चलाता है.

इसकी तलाश असम पुलिस को डेढ़ साल से थी. जिसकी गिरफ़्तारी को लेकर असम सीएम औ डीजीपी स्तर से मोनिटरिंग की जा रही थी. कल गोपालगंज पुलिस को आईबी और आसाम पुलिस के द्वारा ख़ुफ़िया इनपुट मिली थी की मो सरफराज चार दिनों से गोपालगंज स्थित अपने गांव में शरण लिया हुआ है. 

इसी सूचना के आधार फुलवरिया पुलिस और उचकागांव पुलिस की टीम बनाकर इस तस्कर को गिरफ्तार किया गया है.

एसपी के मुताबिक गिरफ्तार तस्कर को गोपालगंज कोर्ट में पेश करने के बाद उसे असम पुलिस को सौंप दिया जायेगा. इसके साथ हवाला कारोबार में पैसे के लिंक को लेकर मामले की छानबीन की जाएगी. बता दें की हवाला के जरिये ही टेरर फंडिंग को लेकर गोपालगंज के कई युवकों को गिरफ्तार किया गया था. जिसे एनआईये की टीम दो वर्षो पूर्व गिरफ्तार किया था.