बिहार: पीएम मोदी का इंटरव्यू बना सियासी गलियारों में चर्चा का विषय, पार्टियों का ऐसा रहा रिएक्शन

 हर दल अपने-अपने तरीके से इंटरव्यू के बारे में बोल रही है. चाहे बीजेपी के सहयोगी दल हों या फिर विपक्षी दल, हर पार्टी के नेताओं के इंटरव्यू को लेकर अपने-अपने तर्क हैं. 

बिहार: पीएम मोदी का इंटरव्यू बना सियासी गलियारों में चर्चा का विषय, पार्टियों का ऐसा रहा रिएक्शन
बीजेपी का कहना है कि प्रधानमंत्री ने हर उस सवाल का जबाव दिया जो जनता के मन में था.

धीरज ठाकुर, पटना: बुधवार को पटना के राजनीतिक गलियारों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू चर्चा का विषय बना रहा. हर दल अपने-अपने तरीके से इंटरव्यू के बारे में बोल रही है. चाहे बीजेपी के सहयोगी दल हों या फिर विपक्षी दल, हर पार्टी के नेताओं के इंटरव्यू को लेकर अपने-अपने तर्क हैं. बीजेपी का कहना है कि प्रधानमंत्री ने हर उस सवाल का जबाव दिया जो जनता के मन में था. जेडीयू ने इसका स्वागत किया तो विपक्षी दलों ने मिलीजुली प्रतिक्रया दी. 

बिहार सरकार में मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नंद किशोर यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंटरव्यू में अपनी बात बेबाकी से कही. उन्होंने कहा कि पीएम के इंटरव्यू के बाद कांग्रेस के पास कुछ कहने के लिए नहीं बचा है. कांग्रेस जो झूठ बोल रही थी और भ्रम फैला रही थी उसकी पीएम मोदी ने हवा निकाल दी. नंदकिशोर यादव ने कहा कांग्रेस का झूठ अब देश स्वीकार नहीं करेगा.

उन्होंने कहा कि बीजेपी सिर्फ सत्ता के लिए राजनीति नहीं करती है बल्कि देश के लिए भी सोचती है. अटल बिहारी बाजपेयी के वक्त से बीजेपी सहयोगी दलों को साथ लेकर चलती है. राम मंदिर राजनीति का मुद्दा नहीं आस्था का विषय है. बीजेपी 2019 के का चुनाव मैदान में विकास को आधार ही जनता के बीच जाएगी .  

जेडीयू ने भी पीएम मोदी के बयान का स्वागत किया है. जेडीयू बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा है कि राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर पीएम ने देश की जनता को भरोसा दिलाया है. पीएम के बयान से एनडीए गंठबंधन और मजबूत होगा. 

वहीं आरजेडी ने कहा कि ऊंट पहाड़ के नीचे आ गया. आरजेडी के प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने कहा कि बीजेपी के लोग राम मंदिर का मुद्दा अलाप रहे थे और जनता कि भावना नहीं समझ रहे थे. उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाया कि काम तो कुछ किया नहीं सिर्फ गैर जरूरी मुद्दे को लेकर शोर मचा रहे थे. अब बीजेपी को पीछे हटना पड़ा है और जनता 2019 में सबक सिखाएगी.

वहीं कांग्रेस के वरिष्ट नेता सदानंद सिंह ने कहा कि पीएम के इंटरव्यू में कुछ अच्छी बातें थी. पीएम का राम मंदिर पर दिया गया बयान ठीक है. कांग्रेस हमेशा से चाहती है राम मंदिर पर फैसला सुप्रीम कोर्ट या फिर आपसी सहमति से हो. उन्होंने कहा क्षेत्रीय पार्टियों को लेकर कहीं ना कहीं बीजेपी पर दबाब भी था. प्रधानमंत्री राजनीति के खिलाड़ी हैं तो राजनीति की बात करेंगे ही.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू साल के दूसरे दिन हर सियासी दलों की बीच चर्चा का विषय बनी रही. चाहे किसी भी दल के नेता हों सबने पीएम के इंटरव्यू को देखा और सबने अपनी अपनी राय रखी. दबी जुबान से विपक्ष भी पीएम के इंटरव्यू सराहा. दरअसल पीएम ने अपने इंटरव्यू उन सारे मुद्दों पर बात की जिसको लेकर हर किसी के मन में सवाल था. अब देखना होगा कि इस इंटरव्यू से बीजेपी को कितना फायदा होगा और विपक्ष इसका काट क्या निकालेगी.